स्टेच्यू ऑफ यूनिटी ने कमाई के मामले में ताजमहल को छोड़ा पीछे, सालभर में 63 करोड़ रु. की हुई कमाई

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Statue_Of_Unity - कमाई के मामले में ताजमहल को छोड़ा पीछे

भारत के प्रथम उप प्रधानमंत्री एवं पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल को समर्पित स्मारक ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ ने नया मुकाम हासिल किया है। लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर की आदमकद प्रतिमा स्टेच्यू ऑफ यूनिटी पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन गई है। सरदार पटेल की जयंती 31 अक्टूबर को ही स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के आम जनता के दर्शनार्थ खुलने की पहली वर्षगांठ पूरी हुई। इस अवधि में टिकट की व्यवस्था संभालने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय एकता ट्रस्ट को रिकॉर्ड 63.39 करोड़ रुपए की कमाई हुई। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देश के श्रेष्ठ 5 स्मारकों में से सबसे ज्यादा कमाई करने वाला स्मारक बन गया है। इस दौरान ताजमहल (Tajmahal) ने एक साल में 56 करोड़ की कमाई की है। आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (Archaeological Survey of India) के सर्वे में यह बात सामने आई है।

आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के सर्वे के मुताबिक सबसे ज्यादा पर्यटक ताजमहल देखने पहुंचे। लेकिन इनकम के मामले में स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी ने ताजमहल को पछाड़ दिया। इस साल के सर्वेक्षण में सबसे ज्यादा पर्यटक विजिट करने के मामले में ताजमहल सबसे आगे रहा है। जहाँ स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी को देखने 24.44 लाख पर्यटक साल भर में आये वहीँ ताजमहल को 64.58 लाख पर्यटक देखने के लिए पहुंचे।

सबसे ज्यादा कमाई वाले 5 स्मारक

Tajmahal

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से पहले आगरा का ताजमहल कमाई के मामले में पहले नंबर पर था। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, भारत के टॉप 5 राजस्व पैदा करने वाले स्मारकों की सूची में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के साथ ताजमहल, आगरा का किला, कुतुब मीनार, फतेहपुर सीकरी और दिल्ली का लाल किला क्रमानुसार शामिल हैं। बीते कुछ वर्षों में सुर्खियों में रहने वाले स्मारक ताजमहल ने पिछले साल सबसे ज्यादा 56.83 करोड़ रुपए की कमाई की थी।

गौरतलब है की स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है। इस प्रतिमा का लोकार्पण 31 अक्टूबर 2018 को PM नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था यह प्रतिमा गुजरात के केवडिया में नर्मदा नदी से घिरी साधु बेट आइलेट के ऊपर एक तारे के आकार के मंच पर खड़ी है। 3000 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हुई इस प्रतिमा को लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड द्वारा निर्मित किया गया है। बता दे कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने पर्यटकों की संख्या के मामले में अमेरिका की ‘स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी’ को पीछे छोड़ दिया है। अमेरिका के 133 साल पुरानी स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी को देखने प्रति वर्ष करीब 23 लाख दर्शक पहुंचते हैं जबकि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को देखले वाले पर्यटकों की संख्या 24 लाख पार कर गई है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •