मोदी से मिले श्रीलंका के प्रधानमंत्री, बोले- दोनों देशों ने आतंकवाद का डटकर मुकाबला किया

Sri Lankan Prime Minister met Modi

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को श्रीलंका के प्रधानमंत्री महेन्द्रा राजपक्षे के साथ द्विपक्षीय स्तर की वार्ता के बाद कहा कि दोनों देश आतंकवाद को एक बड़ा खतरा मानते हैं और इसका कड़ाई के साथ मुकाबला किया है और हम आगे भी आतंकवाद के खिलाफ आपसी सहयोग को और बढ़ाएंगे। इस दौरान प्रधानमंत्री ने ईस्टर के दिन श्रीलंका में हुए आतंकी हमले का जिक्र किया और उसे पूरी मानवता पर हमला बताया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री महेन्द्रा राजपक्षे के साथ दिल्ली के हैदराबाद हाउस में प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की। इसके बाद दोनों नेताओं ने संयुक्त वक्तव्य के दौरान कहा कि भारत अपने पड़ोसी देशों के साथ संबंधों को विशेष महत्व देता है। दोनों देशों के नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर व्यापक चर्चा की है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि श्रीलंका में स्थायित्व, सुरक्षा, और समृद्धि न सिर्फ भारत बल्कि पूरे हिन्द महासागर क्षेत्र के हित में है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री राजपक्षे की इस यात्रा से भारत और श्रीलंका की मैत्री और बहु-आयामी सहयोग और अधिक मजबूत होंगे। साथ ही दोनों देशों के बीच शांति और स्थायित्व के लिए सहयोग भी बढ़ेगा।

इन पर बनी सहमति

प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के दौरान लोगों का लोगों से संपर्क, पर्यटन और यातायात संबंधित संपर्क को लेकर सहयोग पर सहमति बनी। उन्होंने कहा कि चेन्नई और जाफ़ना के बीच हाल ही में सीधी फ्लाइट की शुरुआत, इसी दिशा में हमारे प्रयासों का हिस्सा है। यह इस क्षेत्र के आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए भी लाभकारी होगी। इस उड़ान को लेकर उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया आयी है, यह हमारे लिए प्रसन्नता का विषय है। इस संपर्क को और बढ़ाने, सुधारने और स्थायी बनाने के लिए और प्रयास करने पर भी हमने चर्चा की।

राजपक्षे की पहली विदेश यात्रा

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री महेन्द्रा राजपक्षे का स्वागत किया। प्रधानमंत्री बनने के बाद यह राजपक्षे की पहली विदेश यात्रा है। दोनों देशों के नेताओं ने संबंधों के व्यापक कैनवास की समीक्षा के लिए व्यापक व गहन वार्ता की। दोनों नेताओं ने कहा सुरक्षा, कनेक्टिविटी और कल्याण की हमारी साझा प्राथमिकताएं एजेंडा में सबसे ऊपर हैं।

श्रीलंका के राष्ट्रपति शुक्रवार शाम भारत की राजकीय यात्रा पर दिल्ली पहुंचे थे। आज सुबह उन्होंने सबसे पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। विदेश मंत्री ने ट्वीट कर कहा कि विकास, प्रगति और सुरक्षा के क्षेत्र में दोनों देश सहयोगी हैं। इसके बाद राजपक्षे का राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत किया गया। जहां से राजपक्षे महात्मा गांधी की स्माधी राजघाट गए और राष्ट्रपिता श्रद्धासुमन अर्पित किए। वह रविवार को वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजन अर्चन करेंगे और सारनाथ जाएंगे। सोमवार को बोधगया होते हुए शाम को तिरुपति पहुंचेंगे तथा मंगलवार को भगवान वेंकटेश्वर के सुप्रभात दर्शन करने के पश्चात कोलंबो लौट जाएंगे।