रूस में मोदी-पुतिन की साझा प्रेस कांफ्रेंस की ख़ास बातें

Modi-Putin's shared press conference in Russiaदो दिवसीय दौरे पर रूस पहुंचे भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रुसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने आज बुधवार को अपनी मुलाकात के बाद साझा प्रेस कांफ्रेंस किया| इस प्रेस कांफ्रेंस में मोदी और पुतिन दोनों ने अपनी बातें साझा की और भारत और रूस के बीच बढती दोस्ती और नजदीकियों को खुलकर बयान किया|

आइये देखते हैं की प्रेस कांफ्रेंस की ख़ास बातें क्या थी और किसने क्या कहा?

प्रेस कांफ्रेंस में नरेन्द्र मोदी ने क्या कहा

भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, “आज भारत और रूस के बीच 20वां समिट है| पहले समिट के दौरान मैं गुजरात के मुख्यमंत्री के के तौर अटल बिहारी वाजपेयी जी के साथ रूस आया था| व्लादिमीर पुतिन उस समय भी यहां के राष्ट्रपति थे|”

प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने आगे कहा, “हमारी साझी कोशिश है की दोनों देशों के बीच संबंधों नई ऊंचाईयों को छुए| दोनों देश एक दुसरे का सहयोग कर रहे हैं, भारत में रूस के सहयोग से न्यूक्लियर प्लांट स्थापित हो रहे हैं| हाल ही में भारत का एक प्रतिनिधिमंडल यहां पर आया था और कई समझौतों को साकार किया गया|” मोदी ने कहा कि, भारत और रूस रक्षा, कृषि, पर्यटन, और व्यापार में आगे बढ़ रहे हैं| अंतरिक्ष के क्षेत्र में भी दोनों देशों का सहयोग और उपलब्धियां निरंतर आगे बढ़ रही है|

मोदी ने इस मौके पर अफगानिस्तान के बारे में भी अपना पक्ष रखा| उन्होंने कहा कि, भारत एक ऐसा अफगानिस्तान चाहता है जो स्वतंत्र, शांत और लोकतांत्रिक हो| भारत और रूस दोनों ही देश किसी देश के आंतरिक मामले में बाहरी दखल के खिलाफ हैं| इसके अलावा भारत और रूस मिलकर अगले साल टाइगर कन्जर्वेशन पर एक बड़ा फोरम करने में सहमत हुए हैं|

प्रेस कांफ्रेंस में ब्लादिमीर पुतिन ने क्या कहा

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सबसे पहले नरेन्द्र मोदी के रूस दौरे पर आने के लिए ख़ुशी जाहिर की| उसके बाद उन्होंने भारत और रूस के बीच प्रगाढ़ होते रिश्तों और मोदी के साथ रिश्तों के बारे में बात करते हुए कहा, “दोनों देशों के बीच संबंध काफी सामरिक हैं, हम लगातार अपनी दोस्ती को मजबूत बना रहे हैं| हम लगातार संपर्क में रहते हैं और दोनों देशों के बीच लगातार कई बैठकें हो रही हैं| इससे पहले हम दोनों (मोदी और पुतिन) की मुलाकात ओसाका में हुई थी| हम दोनों लगातार खुले और बढ़िया वातावरण में बात कर रहे हैं| पिछली बैठक में हमने जो फैसले लिए थे, आज हमने उसकी समीक्षा की|” इस मौके पर उन्होंने आगे कहा कि, हमारी प्राथमिकता निवेश और व्यापार है| दोनों देशों के बीच व्यापार में 17 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है| मुझे विश्वास है कि दोनों देश कई और मोर्चे पर साथ आगे बढ़ेंगे|

आज हुए समझौतों के बारे में रूस के राष्ट्रपति ने कहा कि, आज सुरक्षा, व्यापार और ऊर्जा के क्षेत्र में समझौते हुए हैं| हम भारत की कंपनियों का रूस में स्वागत करना चाहते हैं| भारत और रूस के बीच हथियारों को लेकर काफी अच्छे संबंध हैं| आगे हम भारत में मिसाइल सिस्टम और रायफल बनाने की ओर कदम बढ़ा रहे हैं| पुतिन ने कहा कि सामरिक तौर पर दोनों देशों का इतिहास काफी पुराना है|

मोदी को रूस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान – ऑर्डर ऑफ सेंट ऐंड्रयू द अपोस्टल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दुनिया के महत्वपूर्ण देशों का सर्वोच्च नागरिक सम्मान पाने का सिलसिला लगातार बढ़ता ही जा रहा है। इसी क्रम में रूस ने भी पीएम मोदी को अपना सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ सेंट ऐंड्रयू द अपोस्टल’ देने की घोषणा की।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस सम्मान के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और रूस की जनता का आभार व्यक्त किया|

उन्होंने कहा, “आपने (पुतिन ने) अपेन देश का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान देने का फैसला किया। इसके लिए हम आपका और रूस के लोगों के आभारी हैं। यह दोनों देशों के बीच विशेष मैत्रीपूर्ण संबंधों को दर्शाता है साथ ही यह 1 अरब 30 करोड़ भारतीयों के लिए बहुत सम्मान का विषय है।