अधिकारियों से बोले कोरोना को हराने के लिए बेहिचक होकर कर काम 

कोरोना आपदा से निपटने के लिये पीएम मोदी लगातार रणनीति बना रहे इसके लिये वो हर स्तर के अधिकारियों से बात कर रहे है और सुझाव लेकर कोरोना पर वॉर कर रहे है। इसी क्रम में पीएम मोदी ने आज 10 राज्यों के जिला अधिकारियों से बात किया और उन्हे कोरोना को हराने के लिये किसी भी तरह का कदम उटाने की फ्री-हैंड काम करने की ताकत प्रदान की।

अधिकारियों को कोरोना से लड़ने के लिये दिया फ्री हैंड

पीएम मोदी ने जिलों का हालचाल लेने के बाद अपने संबोधन में संबोधन में अधिकारियों से कहा कि वे अपने-अपने जिलों में कोविड संक्रमण को कम करने के लिए जो करना पड़े, वो कदम उठाएं। उन्‍होंने कहा कि ‘मेरी तरफ से आपको पूरी छूट है। अगर आपके पास कोई ऐसा सुझाव है जो पूरे देश के काम आ सकता है तो मुझे जरूर बताएं, बिना हिचक के।’ पीएम ने कहा कि “कोविड के अलावा आपको अपने जिले के हर एक नागरिक की ‘ईज ऑफ लिविंग’ का भी ध्यान रखना है। हमें संक्रमण को भी रोकना है और दैनिक जीवन से जुड़ी जरूरी सप्लाई को भी बेरोकटोक चलाना है।” क्योकि आपके जिले में कोरोना हारेगा तो समझिये देश में भी कोरोना हारेगा। इसलिये कोरोना को हराने के लिये पूरी ताकत के साथ जुट जाइये और कोरोना को हराकर एक बार फिर दुनिया में दिखा दीजिये की विपदा कितनी बड़ी पर भारत उसे हराकर ही दम लेता है।

कोरोना के मामले कम होने पर ना हो लापरवाह

इसके साथ साथ पीएम मोदी ने सभी से अपील करते हुए बोला कि पहली लहर के बाद जैसे हमने कई जगह लापरवाही दिखाई उसका असर दूसरी लहर में साफ तौर पर दिख रहा है। लेकिन अब हमे हमेशा सजग रहना होगा। पीएम मोदी ने कहा कि कम होते आंकड़े देख लापरवाही न करें। उन्‍होंने ग्रामीण क्षेत्रों में ध्‍यान बढ़ाने का निर्देश देते हुए कहा कि “इस समय, कई राज्यों में कोरोना संक्रमण के आंकड़े कम हो रहे हैं, कई राज्यों में बढ़ रहे हैं। कम होते आंकड़ों के बीच हमें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। बीते एक साल में करीब-करीब हर मीटिंग में मेरा यही आग्रह रहा है कि हमारी लड़ाई एक एक जीवन बचाने की है। टेस्टिंग, ट्रैकिंग, ट्रीटमेंट और कोविड अप्रॉप्रियेट बिहेवियर, इसपर लगातार बल देते रहना जरूरी है। कोरोना की इस दूसरी वेव में, अभी ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्रों में हमें बहुत ध्यान देना है।” जिससे तीसरी लहर आने में हम सावधान रहे और उसी हरा सके।

बारीक से बारीक बातो का ध्यान रख कर सरकार कोरोना पर वार कर रही है जिसका असर देश में दिखने भी लगा है लेकिन जो सबक हमने पहले लहर से नही लिया वो सबक दूसरी लहर ने हमे जरूर दिया है और वो ये कि हम कोरोना जैसे दुश्मन से लड़ने के लिये हमेसा चौकस रहेगे जिससे वो हमारे देश में जान माल का नुकसान कम कर सके।