अरुणाचल के इस बूथ पर है केवल एक वोटर, आयोग ने बनाया अस्थायी पोलिंग स्टेशन

अरुणाचल प्रदेश के ह्यूलियांग विधानसभा क्षेत्र में मालोगान बूथ पर केवल एक मतदाता है। इसे भारत का सबसे छोटा बूथ माना जा रहा है। यहां एक अस्थायी पोलिंग स्टेशन निर्मित किया गया है।

भारत के लोकतंत्र की यह सबसे बड़ी खूबी है कि यहां एक-एक वोट कीमती है। यही वजह है कि चुनाव आयोग ने ऐसी जगह पर भी पोलिंग बूथ बनाया है, जहां पर सिर्फ एक वोटर है। अरुणाचल प्रदेश के ह्यूलियांग विधानसभा के एक बूथ पर सिर्फ एक मतदाता है जो 11 अप्रैल को राज्य में होने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनाव के लिए वोट डालेंगी। पिछले लोकसभा चुनाव में इसी बूथ पर सिर्फ दो वोटरों ने वोट डाला था।

एक वोटर के लिए बना पोलिंग स्टेशन

अरुणाचल ईस्ट लोकसभा क्षेत्र में आने वाले इस बूथ के बारे में राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी ने आधिकारिक रूप से भी सूचना दी थी। उन्होंने कहा था कि मालोगाम विधानसभा क्षेत्र के एक बूथ पर केवल एक वोटर है। इसके लिए वहां एक अस्थायी पोलिंग स्टेशन निर्मित किया गया है। यह भारत का सबसे छोटा पोलिंग बूथ है।

मंगलवार को अरुणाचल प्रदेश बीजेपी ने भी ट्वीट कर इसी तथ्य का हवाला देते हुए एक-एक वोट के कीमती होने की बात कही है। बीजेपी ने लिखा है कि लोकतंत्र की शक्ति उसके वोटर में होती है। अरुणाचल के मालोगाम गांव में 45-ह्यूलियांग एलएसी में सिर्फ एक वोटर है और हर वोट गिना जाता है।

केवल महिलाओं के लिए बने 11 बूथ

बता दें कि राज्य में आगामी चुनावों के लिए तकरीबन 7.94 लाख मतदाता 2 लोकसभा ओर 60 विधानसभा सीटों के लिए अपने मताधिकार प्रयोग करेंगे। भारत के इस सीमावर्ती पहाड़ी प्रदेश में कुल 2202 पोलिंग स्टेशन हैं।

Loksabha Election 2019

अरुणाचल प्रदेश विधानसभा में तकरीबन 99.97 प्रतिशत वोटरों को निर्वाचन मतदाता पहचान पत्र उपलब्ध कराया जा चुका है। वहीं इस बार 11 पोलिंग बूथ केवल महिला वोटरों के लिए बनाए गए हैं। राज्य में 11 जुलाई को पहले ही चरण में लोकसभा और विधानसभा चुनाव आयोजित कराए जाएंगे।