सेना का युवाओ के लिए ख़ास प्लान- ज्यादा सैलेरी, छुट्टियां और आखिर में 38 लाख

india-kashmir-pakistan-unrest

भारतीय सेना के तरफ युवाओ को रिझाने के लिए इंडियन आर्मी कुछ नया और खास प्लान कर रही है| शॉर्ट सर्विस कमिशन में ज्यादा से ज्यादा युवा शामिल हो इसलिए सेना ने बढ़िया सैलेरी पैकेज, पेड स्टडी लीव और 10 या 14 साल का कार्यकाल ख़त्म होने पर अच्छी-खासी रकम देने का भी प्लान किया है| सेना की ये सारी कवायद बड़ी तादाद में सेना से युवाओ को जोड़ने को लेकर है|

क्या है प्लान?

दरअसल, एक अंग्रेजी अखबार को रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने बताया है कि सेना अधिकारियों की कमी से जूझ रही है ऐसे में काडर को पुनर्गठित करने के मकसद से ये नया कदम उठाया जाने वाला है| सूत्रों के हवाले से अख़बार को यह भी बताया गया है कि इस नए पैकेज की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है| इस खबर को लेकर मिल रही जानकारी के मुताबिक जहाँ 10 साल में सर्विस छोड़ने वाले अधिकारियों को 17 लाख रुपये तक मिलेंगे| वहीं अगर 14 साल की सर्विस पूरी की जाती है तो 38 लाख रुपए दिए जाएंगे| नए पैकेज इस चीज को ध्यान में रखकर ही निर्धारित किये गए है कि सेना से युवा अधिक संख्या में जुड़ सके| ऐसे में नए पैकेज के निर्धारण के बाद जाहिर सी बात है कि युवा इस तरफ आकर्षित होंगे| जिससे सेना का मकसद भी पूरा हो सकेगा और जरूरत भी|

sena

निर्धारित किये गए नए पैकेज के मुताबिक हर साल की दो महीने की सैलरी उन्हें जोड़कर उन्हें आखिर में दी जानी है| इसके तहत शुरुआती 10 सालों तक के लिए प्रति वर्ष दो माह की सैलरी और आखिरी के 4 सालों 4 माह की सैलरी दी जाएगी| सूत्रों के मुताबिक- ‘शॉर्ट सर्विस कमिशन के तहत तैनात अधिकारियों का 20 साल का कार्यकाल पूरा हो सके और वे पेंशन के भी हकदार हों, इसके लिए उन्हें डिफेंस सिक्यॉरिटी कॉर्प्स या फिर नैशनल कैडट कॉर्प्स में भेजा जा सकता है| केवल इतना ही नहीं प्रोफेशनल कोर्स करने के लिए फुली पेड स्टडी लीव और अन्य लाभों पर भी विचार किया जा रहा है|’

सेना इस प्लान को अंतिम रूप देने के क्रम में इस बात पर भी बखूबी ध्यान दे रही है कि इसके कोई भी शर्त ऐसे न हो जो युवाओ के मनमाफिक न रहे| या फिर वो इसके कारन परेशानियों का सामना करें| सेना वैसे युवाओ को फुली पेड स्टडी लीव देने पर भी विचार कर रही है जो निकट भविष्य में कोई प्रोफेशनल कोर्स करने की सोच रहे है| इसके साथ ही उनके अन्य सभी सुविधाओ को लेकर भी गहनता से विचार किया जा रहा है| ताकि सेना अपने मुख्य मकसद को प्राप्त कर सके|

अधिकारियों की भारी कमी से जूझ रही है सेना

आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि सेना की जरूरतों को देखते हुए तय कुल 49,933 अधिकारियों के मुकाबले इस समय सिर्फ 42,635 अधिकारी ही सेवाएं दे रहे हैं| इस तरह सेना को सात हजार से ज्यादा अधिकारियों की कमी का सामना करना पड़ रहा है| वहीं भारतीय नौसेना में 1,606 अधिकारियों की कमी है| हालांकि वायु सेना में अधिकारियों और जवानों की ज्यादा कमी नही है| सेना के इस इकाई में अभी महज 192 पद ही रिक्त है|