सेना की मदद से कश्मीर के 43 लड़के-लड़कियों का IIT-JEE मेन्स में चयन

Army

आतंकवाद को खतम करने और उससे लड़ने के अलावा, भारतीय सेना जम्मू और कश्मीर के बच्चों को सुविधाएं और शिक्षा प्रदान करने में बहुत बड़ी भूमिका निभा रही है। अब देश की सीमाओं की सुरक्षा के साथ-साथ भारतीय सेना शिक्षा की जिम्मेदारी भी उठाती दिख रही है।

सेना और सेंटर फॉर सोशल रिस्पॉन्सिब्लिटी एंड लर्निंग की ओर से चलाए जा रहे सुपर-30 प्रोग्राम के 41 लड़कों और 2 लड़कियों ने आईआईटी और जेईई की मुख्य परीक्षा में सफलता प्राप्त की है। बता दें की 15 कॉर्प्स ऑफ इंडियन आर्मी इस प्रोग्राम के तहत आर्थिक रूप से कमजोर कश्मीरी छात्र-छात्राओं को मुफ्त में कोचिंग प्रदान करता है।

जानकारी के मुताबिक ये प्रोग्राम सेना और केंद्र द्वारा सामाजिक उत्तरदायित्व और सिखाने के उद्देश्य से चलाया जा रहा है। सदभावना परियोजना के तहत, सेना 15000 से अधिक छात्रों को शिक्षा प्रदान करती है और उत्तरी कमान में ही लगभग 1000 शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारी भी नियुक्त करती है।

भारतीय सेना के अधिकारियों द्वारा पढ़ाए जा रहे छात्र विभिन्न मंच पर पहुंच रहे हैं। इस साल, जम्मू और कश्मीर के आर्मी गुडविल स्कूलों के छात्रों ने सीबीएसई कक्षा 10 की परीक्षा में 100 प्रतिशत उत्तीर्ण किया था।