एस जयशंकर का अमेरिका को दो टूक जवाब: “हमें क्या खरीदना है क्या नहीं, कोई देश न बताए”

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के साथ जयशंकर

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को अमेरिका से प्रतिबंध की धमकी के बावजूद रूस से मिसाइल रक्षा प्रणाली एस-400 खरीदने के भारत के अधिकार का बचाव किया। भारत ने स्पष्ट रूप से कहा है कि हम कहीं से भी सैन्य उपकरण खरीदने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र हैं। सोमवार को अमेरिका की अपनी यात्रा के दौरान, विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि भारत रूस से एस -400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के लिए स्वतंत्र है।

S Jaishankar's blunt reply to Americaएस जयशंकर ने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ के साथ बैठक से पहले संवाददाताओं से कहा, ‘हमने हमेशा कहा है कि हम जो भी खरीदते हैं, वह हमारा संप्रभु अधिकार है।’ जयशंकर ने कहा, ‘हम नहीं चाहते कि कोई देश हमें बताए कि रूस से क्या खरीदना है और क्या नहीं, और न ही हम चाहते हैं कि कोई भी देश हमें इस बारे में राय दे कि हम अमेरिका से क्या खरीदें।

आपको बता दें कि भारत पिछले साल रूस से 5.2 अरब डॉलर में पांच एस -400 सिस्टम खरीदने के लिए सहमत हुआ था। यूक्रेन और सीरिया में रूस की सैन्य भागीदारी और अमेरिकी चुनावों में हस्तक्षेप के कारण, अमेरिका ने 2017 के कानून के तहत रूस से बड़े हथियार खरीदने वाले देशों पर प्रतिबंध लगाने का प्रावधान किया है।

इससे पहले भी विदेश मंत्री एस जयशंकर को दो टूक जवाब दि था और एस-400 समझौते पर कहा था कि भारत वही करेगा जो उसके राष्ट्रीय हित में है।

गौरतलब है की डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन लगातार भारत और रूस के बीच सैन्य समझौते पर नाराजगी जताता रहा है। दो महीने पहले जब रूस को एडवांस पेमेंट किया गया था, तब भी अमेरिका ने धमकी देते हुए कहा था कि भारत का यह फैसला दोनों देशों के रिश्तों पर गंभीर असर डालेगा। दरअसल ट्रम्प प्रशासन लगातार भारत पर दबाब बनाकर भारत को सैन्य समझौतों के लिए अमेरिका और रूस में से किसी एक को चुनने के लिए बाध्य करने की कोशिश करता रहता है।

जयशंकर ने अमेरिका के साथ कुल मिलाकर अच्छे संबंधों को सराहा लेकिन ईरान के संबंध में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के नजरिए को लेकर भारत के मतभेद को रेखांकित किया। अमेरिका ने ईरान पर दबाव बनाने के लिए सभी देशों को उससे तेल खरीदने से रोकने के लिए उन पर प्रतिबंध लगाने की धमकी दी है।

बता दे की एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम दुनिया के सबसे एडवांस एयर डिफेंस सिस्टम में से एक है। एस-400 डिफेंस सिस्टम एक तरह से मिसाइल शील्ड का काम करेगा, जो पाकिस्तान और चीन की एटमी क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइलों से भारत को सुरक्षा देगा। यह सिस्टम एक बार में 72 मिसाइल दाग सकता है। यह सिस्टम अमेरिका के सबसे एडवांस्ड फाइटर जेट एफ-35 को भी गिरा सकता है। वहीं, 36 परमाणु क्षमता वाली मिसाइलों को एकसाथ नष्ट कर सकता है। चीन के बाद इस डिफेंस सिस्टम को खरीदने वाला भारत दूसरा देश है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •