आजादी के कार्यक्रम के जरिये विपक्ष को जवाब, मोदी जी ने खाका किया तैयार

भारतीय राजनीति में आज एक विषम स्थिति देखने को मिल रही है जब विपक्ष का सिर्फ एक ही मकसद है कि वो किसी ना किसी सरकार के कामकाज पर अड़ंगा लगाये जिससे सरकार के कामकाज की रफ्तार धीमी हो सके। दूसरी तरफ पीएम मोदी हैं जो लगातार तेज गति से देश में बदलाव लाना चाहते है और विपक्ष के झूठ को जनता के सामने रखने के लिये उन्होने एक प्लान भी बनाया है जिसके तहत अब मोदी जी के सांसद देश की ‘आजादी के अमृत महोत्‍सव को मनाने के लिये अपने इलाके के इसी गांव में आजादी के 75वें साल पूरा होने पर कार्यक्रम का आयोजन करेंगे।

आजादी को लेकर प्रधानमंत्री का खास प्‍लान

पीएम मोदी ने सांसदों से कहा कि भाजपा के दो कार्यकर्ताओं की ये टीम प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के 75 गांवों का दौरा करेगी और प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में 75 घंटे बिताएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वतंत्रता के 75 वर्ष स्थानीय खेल आयोजनों और स्वच्छता अभियान चलाकर भी मनाए जा सकते हैं। उन्होंने ग्रामीण भारत में लोगों की डिजिटल साक्षरता पर भी जोर दिया ताकि वे सरकारी कल्याणकारी योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठा सकें। साथ ही दो कार्यकर्ताओं की टीम ये देख सके कि लोगों को पीएम सम्‍मान निधि मिली या नहीं। इसी तरह केंद्र सरकार के द्वारा चलाई जा रही स्कीमों का फायदा पहुंच रहा है जमीनी स्तर पर इसका भी पता लगाये जिससे स्थिति को और सुधारा जा सके। वैसे भी पीएम मोदी ने एक दिन पहले मन की बात में साफ कर दिया है कि देश के लोगों को आने वाले दिनो में भारत छोड़ो आंदोलन की तरह भारत जोड़ो आंदोलन की शुरूआत करनी होगी जिससे देश तेजी से आगे बढ़ सके।

विपक्षी दलों के काम को एक्‍सपोज करें

इतना ही नहीं पीएम मोदी ने साफ किया कि विपक्षी दलों के काम को जनता और मीडिया के सामने एक्‍सपोज करें, क्‍योंकि सरकार हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है, लेकिन वह ऐसा नहीं कर रहे हैं। पीएम ने बीजेपी सांसदों को प्रत्‍येक विधानसभा क्षेत्र में दो पार्टी कार्यकर्ताओं की एक टीम बनाने को कहा है, जो कार्यक्रमों का आयोजन करेगी और लोगों से सुझाव मांगेगी कि वे 2047 में भारत की परिकल्पना कैसे करते हैं, जब देश स्वतंत्रता के 100 साल पूरे करेगा।

पीएम मोदी ने विपक्ष पर जोरदार हमला करने के लिये बोला है मतलब साफ है कि अगर विपक्ष सरकार को संसद से सड़क तक घेरने की कोशिश में लगी है तो सरकार उससे दो कदम आगे चलकर शहर सहित अब गांव में भी विपक्ष कि बखिया उखेड़ने की तैयारी कर रही है। अब देखना ये होगा कि किसकी तैयारी किसपर ज्यादा भारी पड़ती है।