कोरोना काल को याद कर जब भावुक हुए नमो

कोरोना वैक्सीन लगने का महा अभियान आज से देश में शुरू हो गया है। इस अभियान को शुरू करते हुए पीएम मोदी ने बोला की देश ने आत्मनिर्भर भारत की एक और इबारत लिख दी है। लेकिन आत्मविश्वास से भरे रहने वाले पीएम मोदी कोरोना काल को याद करके भावुक हो गये । उनकी आवाज उन लोगो के लिए मंद हो गई जो उस दौर में हमसे बिछड़ गये। साफ तौर पर दिख रहा था कि नमो की आंखे नम है उस वक्त को याद करके जब देश ही नही दुनिया विपदा और निराशा के अंधकार में गोते लगा रही थी।

लाखों लोग नहीं लौटे घर वापस – पीएम

देश में कोविड वैक्सीन अभियान की शुरुआत के मौके पर पीएम मोदी भावुक हो गए। पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान कोविड वॉरियर्स का आभार जताते हुए कहा कि कई साथी अस्पताल से घर वापस नहीं लौट सके। पीएम मोदी ने कहा कि लोगों ने एक बहुत लंबी लड़ाई लड़ी है। कई माताओं ने अपनी संतानों को इस लड़ाई में खो दिया। देश के डाक्टरों और नर्सों ने निस्वार्थ भावना से लगातार काम किया। देश ने संकट की घड़ी में ना सिर्फ एकजुटता दिखाई बल्कि हर पल सतर्क रहकर कोरोना पर जीत हासिल करने की तरफ बढ़े। आत्मनिर्भर भारत के संकल्प का ही नतीजा है कि भारत ने बेहद जल्दी कोविड वैक्सीन हासिल कर ली है। देश का मनोबल बना रहे इसके लिए हमने थाली, दीये जलाकर देश का मनोबल बढ़ाकर रखा जिसका परिणाम है कि हम आज कोरोना को हराने में कामयाम हो रहे है।

वैक्सीन लगने के बाद भी पीएम ने की सावधानी बरतने की अपील

वहीं वैक्सीनेशन को लेकर पीएम मोदी ने कई तरह की सावधानियां बरतने की अपील की है। अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि वैक्सीन की पहली और दूसरी खुराक के बीच, करीब एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा। दूसरी डोज लगने के दो हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए ज़रूरी प्रतिरोधक क्षमता का विकास हो पाएगा। ऐसे में मेरा आपसे अनुरोध है कि पहली डोज लगाए जाने के बाद मास्क उतारने की गलती ना करें और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करें क्योंकि ये बात साफ है कि दूसरी खुराक लेने के तय वक्त के बाद ही इम्युनिटी विकसित हो सकती है।

कहते है ना कि कुछ पल ऐसे आते है जब सफलता जरूर हाथ में होती है लेकिन अपनों के जाने का ग़म दिल में होता है शायद वही ग़म पीएम मोदी के दिल में भी था जिसे उन्होने देशवासियों के सामने हल्का कर दिया वैसे इसके पहले भी कई बार पीएम मोदी देशवासियों के आगे भावुक हो चुके है और पता है क्यो क्योकि वो देशवासियों को अपना परिवार समझते है और परिवार के सदस्यों के बीच में ही मन हल्ला किया जाता है ना…