राहत भरी खबर, मोदी सरकार उठाएगी कोरोना वैक्सीन  का पूरा खर्च!

कोरोना  महामारी के बढ़ते खौफ के बीच एक राहत भरी खबर सामने आई है। क्योकि  मोदी सरकार वैक्सीन टीकाकरण का पूरा खर्च उठा सकती है। इस संबंध में आम बजट में ऐलान किया जा सकता है। माना जा रहा है कि फरवरी के अंत से टीकाकरण भी शुरू हो सकता है।

 वैक्सीन को लेकर सरकार ने बनाया रोडमैप

केंद्र सरकार कोरोना  के बढ़ते प्रकोप से चिंतित है और इसे नियंत्रित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इसी क्रम में वैक्सीन  टीकाकरण का पूरा खर्च उठाने की योजना तैयार की गई है। बताया जा रहा है कि इस संबंध में सहमति बन गई है और बजट में इसकी घोषणा की जा सकती है। जानकारो की माने तो  सरकार ने इस संबंध में पूरी योजना तैयार कर ली है। अनुमान के मुताबिक देश के एक नागरिक को कोरोना वैक्सीन डोज देने पर 6-7 डॉलर यानी कि 500 रुपए से ज्यादा का खर्च आएगा। यही वजह है कि सरकार ने 130 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन देने के लिए 500 अरब रुपए का बजट तय किया है। इस बजट का इंतजाम मौजूदा वित्तीय वर्ष के आखिर में किया जाएगा। जिसके बाद वैक्सीन मुहैया कराने में फंड की कमी नहीं होगी।

130 करोड़ लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने में लगी सरकार 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यह स्पष्ट कर चुके हैं कि जब भी कोरोना की वैक्सीन आएगी, देश के हर नागरिक का टीकाकरण किया जाएगा, कोई भी इससे अछूता नहीं रहेगा। पीएम  मोदी ने कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक भी की है। साथ ही उन्होंने राज्यों को आगाह किया कि वे कोरोना के खिलाफ लड़ाई में थोड़ी भी ढिलाई ना बरतें। मुख्यमंत्रियों से चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री ने आरटी-पीसीआर जांच का अनुपात बढ़ाने पर जोर दिया और कहा कि घरों में आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की निगरानी भी बेहतरीन करनी होगी। इतना ही नही हाल ही में 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में PM मोदी ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर की क्लास लगाई थी। दरअसल, खट्टर कोरोना के आंकड़े बता रहे थे, जिस पर उन्हें टोकते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आंकड़े पहले ही आ चुके हैं,  आपके पास आगे का प्लान क्या है? मोदी ने खट्टर से पूछा था कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए आप क्या कर रहे हैं और आगे क्या करेंगे?. इसके बाद खट्टर ने उन्हें अपनी योजना से वाकिफ करवाया। ऐसे में अब ये माना जा रहा है कि सरकार कही न कही वैक्सीन को लेकर रोडमैप तैयार कर रही है। इतना ही नही 28 नवंबर को पीएम खुद पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट वैक्सीन के काम की समीक्षा करने जा रहे है।

ऐसे में देश में कयास तेज है कि वैक्सीन का काम अब अंतिम चरण में है लेकिन इस बीच सरकार सभी को फ्री में ये वैक्सीन लगाती है तो ये एक बहुत अच्छा कदम होगा। जिसकी जितनी भी तारीफ किया जाये कम है।