सरकारी बैंक दे रहे प्राइवेट बैंकों से भी ज्यादा सस्ता लोन

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आरबीआई की रेपो रेट कट के बाद से काफी सारे सरकारी बैंकों ने अपना लोन काफी सस्ता कर दिया है, इस कारण से जहाँ एक तरफ लोग होम लोन के लिये प्राइवेट बैंकों की तरफ भागते थे वहीं आज वो दोबरा सरकारी बैंकों की तरफ रुख करने पर मजबूर हो सकते हैं |

इंटरेस्ट रेट्स में ही बड़ा फर्क नहीं

इस स्थिति में अच्छी रिटेल ऐसेट्स उन सरकारी बैंकों के पास शिफ्ट हो सकती हैं, जो आरबीआई की ओर से किए गए रेट कट के बेहतर ट्रांसमिशन का वादा कर रहे हैं। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एमडी सी एस शेट्टी ने कहा, ‘सरकारी और प्राइवेट बैंकों के इंटरेस्ट रेट्स में ही बड़ा फर्क नहीं है, बल्कि हमारे रीपो लिंक्ड लेंडिंग रेट और MCLR रेट में भी अंतर है।’ शेट्टी ने कहा, ‘जो लोग रेट मूवमेंट्स को समझते हैं, वे मार्केट लिंक्ड रेट को चुनेंगे।’

कई बैंकों ने नहीं लिया फैसला

आरबीआई के कदम के बाद अभी कुछ बैंकों ने अपने रेट ऐक्शन के बारे में निर्णय नहीं किया है, लेकिन अभी जो अंतर दिख रहा है, वह काफी बड़ा है। एसबीआई अपने रीपो लिंक्ड लेंडिंग रेट के लिए 7.05 प्रतिशत रेट ऑफर कर रहा है, बाकि छह महीने और 12 महीने का मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स बेस्ड लेंडिंग रेट 7.70-7.75% पर हैं। यह जानकरी मुंबई की अडवाइजरी फर्म मॉर्गेजवर्ल्ड के डेटा से मिली है।

बढ़ गई हैं रोजाना की क्वेरीज

मॉर्गेजवर्ल्ड के फाउंडर विपुल पटेल ने कहा, ‘आरबीआई के रेट ऐक्शन से पहले हर दो-तीन दिनों में कोई क्वेरी हमारे पास आती थी, लेकिन उसके बाद से रोज ही 8-10 लोग हमसे जानकारी ले रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘होम लोन कंज्यूमर्स इंटरेस्ट रेट में दिख रहे बड़े फर्क का फायदा ले सकते हैं।’

बैंकों के रेट देखें

हर कैटिगरी में ऐक्सिस बैंक 7.80-8.15% की रेंज में रेट ऑफर कर रहा है। ICICI बैंक 7.50-9% की रेंज ऑफर कर रहा है। HDFC के भी जल्द ही इस बारे में निर्णय करने की उम्मीद है, लेकिन अभी वह 8 प्रतिशत का रेट ऑफर कर रही है। कुछ बैंक हो सकता है कि लॉकडाउन के कारण निर्णय करने में देर कर रहे हों क्योंकि इस दौरान बॉरोअर्स का बैंकों तक जाना आसान नहीं है।

ईएमआई में अंतर

बैंक ऑफ बड़ौदा के रिटेल ऐसेट्स हेड वीरेंद्र सेठी ने कहा, ‘सरकारी बैंकों और प्राइवेट बैंकों को दी जाने वाली ईएमआई में अंतर है। हम लोन शिफ्ट करने के लिए कस्टमर्स से कोई डॉक्युमेंट नहीं लेते हैं लेकिन एक वैल्यूएशन किया जाता है और यह काम लॉकडाउन हटने के बाद ही किया जा सकता है।’

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •