भारत-अमेरिका के बीच दूसरी टू प्लस टू वार्ता के लिए अमेरिका में राजनाथ

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Rajnath_NY

भारत-अमेरिका के बीच टू प्लस टू मंत्री स्तरीय वार्ता बुधवार को वॉशिंगटन में होने वाली है। इस दौरान दोनों देश संभावित क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर विचार साझा करेंगे। बैठक में भारत की तरफ से विदेश मंत्री एस जयशंकर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उनके अमेरिकी समकक्ष माइक पोम्पियो और मार्क एस्पर शामिल होंगे। दोनों देशों के रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री, विदेश नीति के व्यापक परिप्रेक्ष्य और भारत-अमरीका संबंधों में रक्षा तथा सुरक्षा संबंधी मुद्दों पर चर्चा करेंगे। दोनों पक्ष विभिन्न क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी विचार-विमर्श करेंगे।

रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री एस जयशंकर बुधवार को होने वाली दूसरी टू प्लस टू वार्ता के लिए अमेरिका आने पर अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने उनकी अगवानी की।

6 सितंबर 2018 को भारत और अमेरिका के बीच पहली बार दिल्ली में 2+2 वार्ता हुई थी। इसमें तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो शामिल हुए थे। विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि इस बैठक का मकसद अमेरिका और भारत के मजबूत संबंधों को प्राथमिकता देना है। ट्रम्प प्रशासन इसके लिए हमेशा अग्रसर है।

अमेरिका-भारत ने ‘क्वाड’ संगठन बनाया

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ रही सैन्य गतिविधियों पर चिंता जताते हुए अमेरिका, भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया ने मिलकर ‘क्वाड’ बनाया। पोम्पियो ने सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा में पहली बार ‘क्वाड’ की मेजबानी की थी। इसमें हिंद-प्रशांत क्षेत्र के सहयोगियों के साथ मिलकर काम करने की प्रतिबद्धता दिखाई गई थी। अधिकारियों ने कहा कि बुधवार को बैठक के दौरान 2+2 सहयोग को और बढ़ाने पर विचार किया जाएगा। साथ क्षेत्रीय और वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा की जाएगी।

भारतीय समुदाय के साथ संवाद

इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने न्यूयॉर्क में एशिया सोसायटी में भारत के महावाणिज्य दूतावास द्वारा आयोजित समारोह में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। अपने संबोधन में राजनाथ सिंह ने दोनों देशों के मजबूत संबंधों के लिए उनका शुक्रिया अदा किया। राजनाथ सिंह ने उपस्थित गणमान्यआजनों को संबोधित करते हुए भारतीय अमेरिकी समुदाय की विशेष अहमियत एवं योगदान के साथ-साथ इस वर्ष के आरंभ में ह्यूस्टेन में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रं मोदी के दौरे के दौरान आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम की सफलता में उनकी भूमिका के बारे में भी विस्तारर से बताया। उन्होंतने अनुच्छे द 370 को निरस्ता किये जाने, नागरिकता अधिनियम में हालिया संशोधन और पड़ोसी देशों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों के बारे में भी विस्तृ त जानकारी दी।

रक्षा मंत्री ने भारतीय समुदाय के साथ संवाद किया और भारत-अमेरिका संबंधों तथा भारतीय अर्थव्यंवस्था सहित विभिन्नव विषयों से जुड़े सवालों का जवाब विस्तातरपूर्वक दिया।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •