शिव भक्तों के लिये रेलवे की सौगात, चलाई गई विशेष ट्रेन ‘काशी महाकाल एक्सप्रेस’

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारतीय रेलवे यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा को लेकर लगातार काम कर रहा है। शिवभक्तों के लिए काशी और उज्जैन के विशेष महत्व को देखते हुए रेलवे ने एक नई ट्रेन से दोनों जगहों को जोड़ने का निर्णय लिया है।

वाराणसी से इंदौर तक के लिए बहुप्रतीक्षित काशी महाकाल एक्सप्रेस का टीजर शुक्रवार को सोशल मीडिया पर जारी कर दिया। नई ट्रेन महाकाल एक्स प्रेस काशी विश्वपनाथ को उज्जैान में महाकाल से जोड़ेगी। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भी पूर्व में इस ट्रेन की जानकारी साझा की थी। यह ट्रेन शिवरात्रि के मौके पर वाराणसी को उज्जैमन से जोड़ने वाली पहली और देश की तीसरी निजी ट्रेन होगी। ट्रेन का रुट और समय हालांकि अभी तक जारी नहीं किया गया है मगर पूर्व घोषित सूचना के अनुसार यह तेजस एक्स्प्रेस रात भर में काशी से उज्जैहन का सफर तय करेगी। सुपर फास्ट काशी महाकाल एक्सप्रेस 16 फरवरी को लॉन्च की जाएगी।

उम्मीद है कि वाराणसी में काशी विश्ववनाथ और उज्जैतन में महाकाल से जोड़ने के लिए ही महाकाल एक्सजप्रेस की शुरुआत शिवरात्रि पर 21 फरवरी से की जा सकती है। इससे भगवान शिव के भक्तों को दोनों ही आस्थास के केंद्रों पर समान रूप से जोड़ने में सह‍ूलियत होगी। वहीं चौबीस घंटों में श्रद्धालु दोनों ही जगहों पर पूजन अर्चन कर सकेंगे।

कम होगी दोनों शहरों की दूरी

काशी महाकाल एक्सप्रेस चलाने का उद्देश्य काशी विश्वनाथ और महाकाल के बीच की दूरी को कम किया जा सके। फिलहाल दोनों शहरों के बीच कोई सीधी ट्रेन नहीं है, जिसकी वजह से शिवभक्तों को परेशानी का सामना करना पड़ता था। 1200 किमी की दूरी को तय करने में 20 घंटे से ज्यादे का समय लग जाता था। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। यह ट्रेन हफ्ते में तीन दिन चलेगी।

तीन ज्योतिर्लिंगों को जोड़ेगी यह ट्रेन

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भी ट्वीट कर इसके बारे में जानकारी दी। रेलमंत्री ने लिखा कि रेलवे द्वारा भगवान शिव के तीन ज्योतिर्लिंगों ओंकारेश्वर, महाकालेश्वर और काशी विश्वनाथ को कनेक्ट करने वाली “काशी महाकाल एक्सप्रेस” शुरू की जा रही है। सप्ताह में तीन दिन इंदौर से वाराणसी के बीच चलने वाली इस AC ट्रेन में यात्रियों के लिए आधुनिक सुविधायें उपलब्ध होंगी।

पीएम दिखाएंगे हरी झंडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 फरवरी को काशी से उज्जैन होते हुए इंदौर तक चलने वाली देश की तीसरी कारपोरेट ट्रेन महाकाल एक्सप्रेस का वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कैंट स्टेशन से लोकार्पण करेंगे। आईआरसीटीसी के मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक अश्विनी श्रीवास्तव ने बताया कि ट्रेन चलाने के लिए रेलवे बोर्ड ने नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। हालांकि इसके नियमित रूप से चलने की तारीख अभी तय नहीं है। उम्मीद है कि शिवरात्रि से यह नियमित रूप से चलाई जाएगी। रविवार को वाराणसी से यह ट्रेन इलाहाबाद-कानपुर रूट से चलेगी, जबकि लखनऊ-कानपुर रूट से यह मंगलवार और गुरुवार को चलेगी। यह ट्रेन भोपाल के यात्रियों के लिए भी सहूलियत भरी होगी। संत हिरदाराम नगर भोपाल शहर के पास का स्टेशन है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •