अंतरष्ट्रीय बाघ दिवस के मौके पर PM मोदी ने दी खुशखबरी, कहा अब देश में बाघों की संख्या 2967 हो गयी है

All India Tiger Estimation - 2018, at LokKalyan Marg in New Delhi.

आज अंतरष्ट्रीय बाघ दिवस है और इस खास मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने पुरे देश वासियों को बाघों के संख्या बढ़ने की खुशखबरी दी है| जी हाँ देश में अब बाघों की संख्या 2967 हो गई है | अखिल भारतीय बाघ अनुमान रिपोर्ट 2018 को सबके साथ साझा करते हुए PM मोदी ने बताया करीब 3000 बाघों के साथ भारत दुनिया का सबसे बड़ा और सुरक्षित ठिकाना बन गया है | इसके साथ ही सत्यमंगल टाइगर रिजर्व तमिलनाडु को सर्वश्रेष्ठ टाइगर रिजर्व के पुरस्कार से भी नवाज़ा गया |

इस प्रकृति के सुचारू रूप से संचालन के लिए जितनी अहमियत इंसानों की है उतनी ही जानवरों की भी है, जितना हक़ इस वातावरण पर हमारा है उतना ही जानवरों का भी है | पर इस दौर को आधुनिक करने के लिए हमने जानवरों के घर यानि जंगलों को नष्ट कर दिया जिसका परिणाम है की जानवरों की संख्या भी कम होती जा रही है | कुछ प्रजातियाँ तो ऐसी भी जो विलुप्त हो चुकी है और जो विलुप्त होने के कगार पर है |

जहाँ तक बात बाघों की करे तो राजाओं और अंग्रेजों के ज़माने में अनगिनत बाघ ऐसे थे जो इनके शिकार के शौक का शिकार हुए थे जिसके नतीजा ये हुआ की आज हमारे देश में बाघों की संख्या गिनतियों में रह गयी है | बचे हुए बाघों के सरंक्षण के लिए सरकार ने कई तरह के अभियान चलाये | देश में कई टाइगर रिज़र्व का निर्माण भी करवाया गया जहाँ पर खासतौर से बाघों का सरंक्षण किया जा सके | और अब इन कोशिओं के नतीजें भी सकारात्मक दिख रहे है |

International Tiger Day

बता दे की जब 2010 में भागों की गिनती हुई तो देश में 1706 बाघ थे वही ये आंकड़ा 2014 में 2226 तक पहुँच गया और अब 2018 की रिपोर्ट के अनुसार अब देश में बाघों की संख्या 2967 तक पहुँच गयी है |

प्रधानमंत्री कहते है की बाघों की घटती संख्या को देखकर 9 साल पहले सेंट पीटर्सबर्ग में बाघों की संख्या 2022 तक दोगुनी करने का लक्ष्य तय किया गया था | भारत ने अपनी संवेदंशिलता और सजगता से इस लक्ष्य को 4 साल पहले ही हांसिल कर लिया |

विकास के साथ पर्यावरण

जितना अनिवार्य हमारे लिए विकाश करना है उतना ही हमारे लिए जानवरों को सुरक्षित रखना भी ज़रूरी है | PM मोदी ने कहा की हमारे इस मुहीम में हमारी कोशिश सिर्फ बाघों को बचाना नहीं है बल्कि और जानवर जैसे गीर के शेरों और हिमतेंदुओं को बचाने की मुहिम भी चल रही है |

जानवरों का भगवन से नाता

PM मोदी ने कहा की कई जानवर ऐसे है जो भगवानो से जुड़े हुए है तो फिर हमारी तो ज़िम्मेदारी बनती है की हम इनका सरंक्षण करे | उन्होंने कहा की शिव जी के गले में सांप है तो उन्हीं के परिवार में गणेश जी की सवारी चूहा है और उनके छोटे भाई कार्तिकेय जी मोर की सवारी करते है | हमारे देवी-देवता के साथ पशु-पक्षी भी जुड़े हैं |

एक था टाइगर से टाइगर जिंदा है

PM मोदी कहते है की देशवासियों ने बाघ बचाने के इस मुहीम में जो संवेदनशीलता और सजकता दिखाई है वो काबिल-ए-तारीफ है | बाघ संरक्षण की हमारी ये मुहीम एक था टाइगर से टाइगर जिंदा है तक पहुँच गयी है और अभी ये मुहीम रुकने की दशा में भी नहीं है | अभी इस मुहीम के तहत बाघों की संख्या और भी आगे करनी है |