प्रधानमंत्री मोदी की युवा सांसदों के साथ चाय पर चर्चा

PM Modi interact with BJP MPs

बीते गुरुवार को PM मोदी ने सभी युवा सांसदों को अपने घर पर चाय-नास्ते के लिया आमंत्रित किया| सूत्रों के अनुसार इस चाय के कार्यक्रम का अहम मुद्दा था, युवा सदस्यों का परिचय लेना और राजनीति के अलावा उनका पेशा क्या है, उनकी रूचि किस क्षेत्र में है इन सब बातों की जानकारी लेना।

युवा सांसदों से चाय की चुस्कियों के साथ उनका परिचय लेते हुए PM मोदी ने उनसे राजनीति के अलावा उनसे उनके पेशे के बारे में पूछा| PM मोदी कहते हैं कि सभी सांसदों के क्षेत्र की जनता को इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि उनका सांसद राजनीति के अलावा और क्या काम करता है| ऐसा होने से वो लोग जो राजनीति के अलावा दुसरे काम को ज्यादा महत्व देते हैं, उनकी परेशानियों को भी सांसद समझ पाएंगे|

इन सब के अलावा भी एक अहम् मुद्दा था जिसके बारे में PM मोदी युवा सांसदों के साथ बात करना चाहते थे, और वो था इस बार गाँधी जयंती के अवसर पर होने वाली पदयात्रा कार्यक्रम का आयोजन|

अपने पाठकों को हमने पहले भी बताया था कि महात्मा गाँधी के 150वीं जयंती को खास बनाने के लिए 2 अक्टूबर (गाँधी जयंती) से 31 अक्टूबर (सरदार पटेल जयंती) तक 150 किलोमीटर की पदयात्रा के आयोजन का प्लान है। जिसमे हर संसदीय क्षेत्र के संसद को इस पदयात्रा में हिस्सा लेना अनिवार्य है| PM मोदी के निर्देश हैं कि सांसदों को हर रोज़ 15 किलोमीटर की यात्रा भी करनी है और साथ ही इस पदयात्रा में विधायक और कार्यकर्ता भी शामिल होंगे|

इस पदयात्रा के आयोजन के पीछे PM मोदी की मंशा है कि बापू के विचारों को और उनकी शिक्षा को लोगो के बीच दुबारा से जागृत किया जाये| इसीलिए इस पदयात्रा में सांसद सभी बूथों को कवर करेंगे और लोगों को गाँधी के विचारों के बारे में समझायेंगे। साथ ही आज़ादी में उनके योगदानों को भी बताएँगे | इन सब के साथ ही बूथों पर वृक्षारोपण भी किये जायेंगे|

ज़ाहिर सी बात है PM मोदी देश के युवा सांसदों को चाय-नास्ते पर बुलाकर उन्हें और भी नजदीक से जानना चाहते है ताकि इस पदयात्रा की तैयारियों के लिए वे ऐसे सांसदों का चुनाव कर सके जो इस कार्यक्रम को सफल बनाने में उनकी पूरी सहायता करे|