कारगिल विजय की 20वीं वर्षगांठ पर भारतीय सेना कर रही ख़ास जश्न की तैयारियां

कारगिल युद्ध के 20 साल पूरे होने का जश्न मना रही है भारतीय वायुसेना - फोटो : PTI

सन 1999 में भारतीय सेना और पाकिस्तानी सेना के बीच हुए कारगिल युद्ध के बारे में हम सब जानते हैं| इस युद्ध को भारतीय सेना द्वारा “ऑपरेशन विजय” नाम दिया गया था| भारत और पाकिस्तान के बीच ये युद्ध मई और जुलाई 1999 के बीच कश्मीर के कारगिल में हुई थी|

इस युद्ध की खास बात थी की यह युद्ध हिमालय के अत्यधिक ऊँचाई वाले इलाके में हुआ जहाँ देशों की सेनाओं को लड़ने में काफ़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ा| पर फिर भी भारतीय सेना और वायुसेना ने अपने अदम्य साहस और पराक्रम से पाकिस्तान के कब्ज़े वाली जगहों पर हमला किया और पाकिस्तान को सीमा पार वापसजाने को मजबूर किया|

ग्वालिअर एयर बेस पर वायुसेना का जश्न

इस युद्ध के 20 साल पुरे हो गए हैं और भारतीय वायुसेना इस अवसर पर जश्न मना रही है| इसके लिए सोमवार को ग्वालियर स्थित एयर बेस को पूरी तरह से थिएटर में तब्दील कर दिया गया जहाँ पर जम्मू और कश्मीर के द्रास-कारगिल क्षेत्र में टाइगर हिल हमले का एक प्रतिकात्मक चित्रण प्रस्तुत किया गया| आपको बता दें कि ये हमला 24 जून 1999 को टाइगर हिल पर शरण लिए हुए पाकिस्तानी घुसपैठियों पर किया गया था|

On 20th anniversary of the_Kargil war| PC-IBC24

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ थे| साथ ही अलग-अलग वीरता पुरस्कार से सम्मानित विजेताओ ने भी इस कार्यक्रम ने भी कार्यक्रम में शिरकत की, जिनमे से कुछ अभी भी सेवा दे रहे हैं, जबकि कुछ सेनानिवृत हो चुके है|

जश्न के इस अवसर पर भारतीय वायुसेना ने कई तरह की गतिविधियों की योजना बनाई| टाइगर हिल के प्रतीकात्मक चित्रण में ऑपरेशन विजय में इस्तेमाल मिराज 2000 और अन्य विमानों के प्रदर्शन को शामिल किया गया जिसमे पांच मिराज 2000, दो मिग 21, और एक सुखोई 30 एमकेआई का प्रदर्शन किया गया|

दिल्ली, कश्मीर और देश में अन्य जगहों पर जश्न की तैयारी

सूत्रों से मुताबिक कारगिल विजय दिवस की 20वीं वर्षगांठ के अवसर पर दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में सेना द्वारा कई आयोजन किए जाएंगे| सैन्य अधिकारियों का कहना है कि जुलाई के पहले हफ्ते से देशभर में कई कार्यक्रमों का आयोजन करने की योजना बनाई गयी है| देश की राजधानी दिल्ली में इन कार्यक्रमों के आयोजन की शुरुआत 15 जुलाई से होगी| सेना के द्वारा आयोजित इन कार्यक्रमों का मुख्य उद्देश्य देश के युवाओ के बीच देशप्रेम की भावना को जागृत करना और शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देना होगा|