पीएम मोदी जी के कल के संबोधन में हो सकता है, ‘कुछ ऐसा ऐलान’

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पीएम मोदी जी के कल के संबोधन में हो सकता है, कुछ ऐसा ऐलान  

कोरोना को हराने के लिए 21 दिन पहले पीएम मोदी ने लॉकडाउन की घोषणा की थी, जो कल खत्म होने वाली है लेकिन जिस तरह कोरोना के मामले देश में अभी भी देखे जा रहे हैं उसको लेकर लोगों के मन में एक दक्ष प्रश्न खड़ा हो रहा है कि क्या लॉकडाउन आगे भी जारी रह सकता है या नही?  फिलहाल इस सवाल का उत्तर जानने के लिए सुबह 10 बजे तक का इंतजार करना होगा, क्योंकि कोरोना संकट के बीच कल यानी 14 अप्रैल को हमारे प्रधान मोदी जी फिर जनता को संबोधित करने वाले हैं। हालांकि इस बीच ये कयास लगाया जा रहा है कि कुछ छूट जरूर मिल सकती है।  

लॉकडाउन 2.0 से उठेगा पर्दा कल 

वैसे लॉकडाउन को लेकर कल पर्दा उठ जायेगा, लेकिन जिस तरह से देश के ज्यादातर मुख्यमंत्री  लॉकडाउन को आगे बढ़ाने के पक्ष में दिख रहे हैं। इससे ये कहना सरल हो गया है कि कल पीएम कुछ और दिन तक तालाबंदी कर सकते हैं। यहां गौर करने वाली बात ये भी है कि कई बड़े राज्यों ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ा भी दिया है। जिस तरह कोरोना के मामले भी आ रहे हैं, उसको देखकर भी यही लगता है कि लॉकडाउन जरूरी है।

मिल सकती है लॉकडाउन में कुछ ढ़ील

कयास लगाया जा रहा है कि कल सुबह पीएम मोदी का जो संबोधन होगा, उसमें वह लॉकडाउन 2.0 यानी दूसरे चरण की घोषणा कर सकते हैं। साथ ही ये भी उम्मीद की जा रही है कि दूसरे चरण में कई तरह की ढील भी दी जा सकती है। कुछ दिन पहले ही पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि जान भी, जहान भी। यानी वह साफ कर रहे थे, कि दूसरे चरण के लॉकडाउन में ढील मिलेगी। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी कह दिया है कि लॉकडाउन 2.0 में लोगों की आजीविका का भी ध्यान रखना होगा। इससे पहले पीएम मोदी के आदेश के बाद सभी कैबिनेट मंत्रियों ने अपने अपने दफ्तर में काम करना भी शुरू कर दिया है। दरअसल, लॉकडाउन की वजह से बहुत नुकसान हो रहा है, जबकि भारत पहले ही आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहा था। ऐसे में अर्थव्यवस्था को भी संभालना जरूरी है।

संक्रमण जोन में बढ़ेगी सख्ती

लॉकडाउन के दौरन ये भी देखा जा रहा है कि बहुत सारे संक्रमण जोन बनाए गए हैं। उन संक्रमण जोन में सख्ती को काफी अधिक बढ़ा दिया गया है। लॉकडाउन 2.0 में भी ये संक्रमण जो सख्ती के दायरे में ही रहेंगे। जहां संक्रमण नहीं है या बहुत कम है, वहां पर लॉकडाउन में ढील दी जा सकती है। साथ ही जिन इलाकों में कोरोना के ज्यादा मामले पाये गये हैं वहां पर हर आदमी का टेस्ट भी किया जायेगा। इसके साथ कई ठोस कदम राज्य सरकारों द्वारा भी उठाया जा सकता है। 

छोटे कल कारखानों को मिल सकती है छूट 

अर्थव्यवस्था और कामगारों की स्थिति सुधारने के लिए सरकार छोटे और मध्यम उद्योगों को खोल सकती है। इसमें मोदी को सुझाव गया है कि फैक्ट्री में मजदूर अंदर रहकर काम करें और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ वहीं रहें, घर न जाएं। इन कारखानों में काम करनेवाले ज्यादातर लोग कैंप्स में रह रहे हैं। इन्हें स्पेशल ट्रेन और बस की मदद से फैक्ट्री तक पहुंचाया जा सकता है। फिलहाल ऐसे कारखानों की पहचान हो रहीमाना जा रहा है कि पूरा अप्रैल ऐसे ही काम करवाया जा सकता है। 

इनके लिये भी राहत की खबर आ सकती है 

टेक्सटाइल, ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रिक सामान बनाने वाली कंपनियां शुरू हो सकती हैं। हाउसिंग और कंस्ट्रक्शन सेक्टर के साथ-साथ सड़क की रेहड़ी पटरी को छूट मिल सकती है। इसके अलावा मोबाइल, इलेक्ट्रिक रिपेयर की दुकान, धोबी, मोची, प्रेस वाला आदि को काम करने की इजाजत हो सकती है।

बहरहाल अभी सिर्फ कयास ही लगाया जा सकता है। हकीकत में क्या होगा, ये तो कल पीएम के भाषण को सुनने के बाद ही पता चलेगा लेकिन इतना तो तय है कि हमारे प्रधान सेवक जो भी कदम उठायेंगे वो देशहित में ही होगा और आने वाले दिनों में इसके परिणाम देश को आगे ही ले जाएंगे।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •