“देशवासियों, आपको सबूत चाहिए या सपूत चाहिए” – प्रधानमंत्री मोदी

• मेरठ की रैली में उपस्थित अपार जनसमूह की तरफ इशारा करते हुए मोदी – “जिसे भी 2019 का जनाधार देखना हो, वे ये जनसैलाब देखें’
• जमीन हो, आसमान हो, या फिर अंतरिक्ष, सर्जिकल स्ट्राइक का साहस आपके इसी चौकीदार की सरकार ने करके दिखाया है – पीएम मोदी
• ‘मैं अपना हिसाब दूंगा, साथ-साथ दूसरों का हिसाब भी लूंगा| ये दोनों काम साथ-साथ चलने वाले हैं|’ – पीएम मोदी

लोकसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में जनसमर्थन जुटाने के लिए आज से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चुनावी प्रचार का आगाज कर दिया है| प्रधानमंत्री आज अपने चुनावी प्रचार का आगाज मेरठ से कर रहे है| मेरठ में हो रहे प्रधानमंत्री की रैली में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे|

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के शुरुआत में सामने खड़े जनसैलाब की तरफ इशारा करते हुए कहा कि, जिसे भी 2019 का जनाधार देखना हो, वे ये जनसैलाब देखें| प्रधानमंत्री ने लोगो को आश्वस्त करते हुए कहा कि इस बार भी बीजेपी की सरकार बनना तय है| उन्होंने कहा कि जमीन हो, आसमान हो, या फिर अंतरिक्ष, सर्जिकल स्ट्राइक का साहस आपके इसी चौकीदार की सरकार ने करके दिखाया है|

pm-modi-in-meerut

प्रधानमंत्री ने एयरस्‍ट्राइक के सबूत मांगने वालों पर हमला करते हुए कहा कि आज स्थिति ये है कि कुछ दिन पहले जो चौकीदार को चुनौती देते फिरते थे, वो आज रोते फिरते हैं| विपक्ष रोता है कि मोदी ने पाकिस्‍तान को घर में घुसकर क्‍यों मारा| महागठबंधन के नेता पाकिस्‍तानी मीडिया में छाए हैं| 26 फरवरी से आतंकियों की रूह कांप रही है| अब देश बताए कि उन्‍हें सबूत चाहिए या सपूत चाहिए| मेरे देश के सपूत, यही मेरे देश के सबसे बड़े सबूत हैं| जो सबूत मांगते हैं, वो सपूत को ललकारते हैं|

इस दौरान उन्होंने कहा कि, ‘मैं अपना हिसाब दूंगा, साथ-साथ दूसरों का हिसाब भी लूंगा| ये दोनों काम साथ-साथ चलने वाले हैं| तभी तो होगा हिसाब बराबर| और आप तो जानते हैं कि मैं चौकीदार हूं| चौकीदार कभी नाइंसाफी नहीं करता है| हिसाब होगा, सबका होगा, बारी-बारी से होगा| आने वाले दिनों में एनडीए के पांच साल का हिसाब रखूंगा और विरोधियों से पूछूंगा कि जब देश ने आप लोगों पर भरोसा किया था, तो आप नाकाम क्‍यों रहे| क्‍यों आपने देश की जनता का भरोसा तोड़ा|

प्रधानमंत्री ने इस दौरान यह भी कहा कि, ‘आज एक तरफ विकास का ठोस आधार है, दूसरी तरफ न नीति है, न विचार है, न ही नीयत है| आज एक तरह नए के भारत के संस्कार हैं और दूसरी तरफ वंशवाद का बोलबाला है| आज एक तरफ नए भारत के संस्कार हैं, तो दूसरी तरफ वंशवाद और भ्रष्टाचार का विस्तार है| एक तरफ दमदार चौकीदार है, तो दूसरी तरफ दागदारों की भरमार है|’ पीएम मोदी ने कहा, ‘5 साल पहले जब मैंने आप सभी से आशीर्वाद मांगा था तो आपने भरपूर प्यार दिया था, मैंने कहा था आपके प्यार को मैं ब्याज सहित लौटाऊंगा और जो काम किया है, उसका हिसाब दूंगा और साथ में दूसरों का हिसाब भी लूंगा|’

प्रधानमंत्री ने महागठबंधन पर हमला करते हुए कहा कि सारे महामिलावटी लोग, कौन पाकिस्तान में ज्यादा पॉपुलर होगा इस प्रतिस्पर्धा में लगे हैं| वहां की मीडिया में छाए हुए हैं| आपको तय करना है कि आपको हिंदुस्तान के हीरो चाहिए या पाकिस्तान के? उन्‍होंने कहा, ‘मैं देश के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगाने के लिए तैयार रहने वाला व्यक्ति हूं| कोई भी राजनीतिक दबाव, कोई भी अंतरराष्ट्रीय दबाव, आपके इस चौकीदार को डिगा नहीं पाएगा और न कोई डरा पाएगा|’

इससे पहले प्रधानमंत्री ने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि 2019 के चुनाव अभियान की शुरुआत मेरठ से शुरु करने की एक खास वजह है| 1857 में वही सपना, वही आकांक्षा दिल में लिए इसी मेरठ से स्वतंत्रता के आंदोलन का पहला बिगुल फूंका गया था| हम सबके आदरणीय चौधरी चरण सिंह जी को मैं नमन करता हूं| चौधरी साहब देश के उन महान सपूतों में से हैं, जिन्होंने देश कि राजनीति को खेत खलिहानों और किसानों की ओर ध्यान देने के लिए बाध्य किया|

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान विपक्षी पार्टियों पर जमकर हमला बोला| उन्होंने इस दौरान यह भी कहा कि, ‘जब दिल्ली में इन महामिलावटी लोगों की सरकार थी, तो आए दिन देश के अलग-अलग कोने में बम धमाके होते थे| ये आतंकियों की भी जात और पहचान देखते थे और उसी आधार पर पहचान करते थे कि इसे बचाना है या सजा देनी है|’ उन्‍होंने इस दौरान आर्थिक आधार पर दिए गए आरक्षण का भी जिक्र करते हुए कहा कि, ‘सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला भी हमारी सरकार ने किया है| जब आपने ये खबर सुनी होगी तो आपको भी गर्व हुआ होगा| जब मैं बैंक खाते खुलवाता था तो कुछ बुद्धिमान लोग कहते थे कि देश में बैंक ही नहीं है खाते से क्या होगा| जो 70 साल में गरीब का खाता नहीं खुलवा सके वो आज कहते हैं कि खाते में पैसे डालेंगे|’