पीएम नरेंद्र मोदी भूटान के दो दिवसीय दौरे पर

PM Narendra Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूटान के प्रधानमंत्री डॉ. लोटे शेरिंग के निमंत्रण पर 17 अगस्त से विश्वस्त मित्र और पड़ोसी देश भूटान के दो दिवसीय दौरे पर जा रहे है। विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा की प्रधानमंत्री मोदी की यह यात्रा नई दिल्ली और थिम्पू के बीच उच्च प्राथमिकता को दर्शाती है और अपने संबंधों को थिम्पू के साथ जोड़ती है।

पीएम नरेंद्र मोदी की भूटान की यात्रा के दौरान दोनों रणनीतिक सहयोगी द्विपक्षीय साझेदारी को और मजबूत बनाने और विविधता लाने के तरीके तलाशेंगे। 2014 में प्रधानमंत्री के रूप में पदभार संभालने के बाद भूटान पहला देश था, जिसका दौरा सबसे पहले मोदी जी ने किया था । साथ ही मंत्रालय ने कहा की, ” अपने दूसरे कार्यकाल में प्रधान मंत्री मोदी की भूटान की यात्रा, भारत सरकार की‘ नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी ‘ नीति के महत्व को भी दर्शाती है। “

PM Narendra Modi on a two-day visit to Bhutan

यात्रा के दौरान, मोदी अपने भूटानी प्रधानमंत्री डॉ. लोटे शेरिंग के साथ बातचीत करेंगे और उम्मीद की जाएगी कि भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक से मिलेंगे। भूटान भारत का रणनीतिक सहयोगी रहा है और पिछले कुछ वर्षों में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध और मजबूत हुए हैं।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंत्रालय का प्रभार संभालने के बाद अपनी पहली विदेश यात्रा में हिमालयी राष्ट्र भूटान का दौरा जून में किया था । विदेश मंत्रालय ने कहा कि यात्रा दोनों पक्षों के द्विपक्षीय साझेदारी को मजबूत करने और विविधता लाने के तरीकों पर चर्चा करने का अवसर प्रदान करती है, जिसमें आर्थिक और विकास सहयोग, जलविद्युत सहयोग और लोगों से लोगों के बीच संबंध शामिल हैं। इसमें पनबिजली क्षेत्र में सहयोग सहित दोनों देशों के लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने का विषय भी शामिल है। बता दें कि भारत ने भूटान और बांग्लाुदेश को नदी मार्ग से जोड़ने का बेहतरीन काम किया है। इसके अलावा पीएम मोदी भूटान में भारत की पनबिजली कंपनी एनएचपीसी के सहयोग से मध्य भूटान के ट्रोंगसा डोंग्खग जिले के मंगदेछु नदी में 720 हजार मेगावाट की क्षमता वाली बिजली परियोजना का उद्घाटन करेंगे। कहा जा रहा है कि इस परियोजना की कुल लागत 1 बिलियन डॉलर है।

विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा के दौरान दोनों देश आपसी हितों से जुड़े विविध विषयों पर व्यापक चर्चा करेंगे। साथ ही अपने पहले से मजबूत संबंधों को और अधिक प्रगाढ़ बनाने पर जोर देंगे।