टूलकिट के साजिश रचने वालो पर पीएम मोदी का तंज

किसान आंदोलन के जरिये देश का माहौल खराब करने वालों पर पीएम मोदी ने आज खुलकर बोला। विश्व भारती विश्वविद्यालय के एक समारोह में पीएम मोदी ने बिना नाम लिये टूलकिट साजिश रचने वालो पर निशाना साधा और ये बताने की कोशिश की कैसे देश का माहौल खराब किया जा रहा है। 

टूलकिट पर पीएम का प्रहार!

पश्चिम बंगाल के विश्वभारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने कहा, गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर ने जो धरोहर मां भारती को सौंपी हैं उसका हिस्सा बनना मेरे लिए प्रेरक है। उन्होंने कहा, बंगाल ने अतीत में भारत के समृद्ध ज्ञान-विज्ञान को आगे बढ़ाने में देश को नेतृत्व दिया है। बंगाल, एक भारत श्रेष्ठ भारत की प्रेरणा स्थली भी रहा है और कर्मस्थली भी है। लेकिन इस बीच पीएम ने साफ किया कि देश में कुछ पढ़े लिखे लोग हिंसा फैला रहे हैं जो दुनिया में आतंक फैला रहे हैं, उनमें से भी कई अच्छे शिक्षित और स्किल्ड हैं लेकिन उनकी सोच का फर्क है। दूसरी तरफ ऐसे भी लोग हैं जो कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से दुनिया को मुक्ति दिलाने के लिए दिनरात प्रयोगशालाओं में जुटे हुए हैं। आपका ज्ञान, आपकी स्किल, एक समाज को, एक राष्ट्र को गौरवान्वित भी कर सकता है और वो समाज को बदनामी और बर्बादी के अंधकार में भी धकेल सकता है

नीयत साफ होनी चाहिए

इतना ही नही पीएम मोदी ने कहा, इतिहास और वर्तमान में ऐसे अनेक उदाहरण हैं अगर आपकी नीयत साफ है और निष्ठा मां भारती के प्रति है तो आपका हर निर्णय किसी ना किसी समाधान की तरफ ही बढ़ेगा। सफलता और असफलता हमारा वर्तमान और भविष्य तय नहीं करती। हो सकता है आपको किसी फैसले के बाद जैसा सोचा था वैसा परिणाम न मिले, लेकिन आपको फैसला लेने में डरना नहीं चाहिए। आज सरकार कुछ ऐसा ही कर रही है तभी तो लगातार देश में सख्त और ठोस फैसले लिये जा रहे है जिससे देश में विकास की रफ्तार तेजी से आगे चलती रहे। कोरोना काल में हमने दिखा दिया है कि भारत आत्मनिर्भर बनकर आगे बढ़ेगा और साफ नियत से काम करेगा जिससे देश नये आयम छू सके।

पीएम मोदी ने अपने इस संवाद से ये साफ कर दिया कि देशवासियों को उन लोगों से सावधान रहना चाहिये जो देश में नकरात्मक का माहौल बना रहे है। क्योकि इस नकरात्मक माहौल से भारत अभी सिर्फ उभरा ही है और अगर उसे तेज रफ्तार में चलना है तो फिर इस ओर ध्यान नही देना होगा।