भारत के विकास का मास्टर प्लान है पीएम मोदी का मिशन 2047

 देश आजादी की 75वीं वर्षगाठ मनाने के लिये पूरी तरह से तैयार है। हर तरफ आजादी के इस जश्न में शामिल होने के लिये लोगों में उत्साह भी देखा जा रहा है। इस बीच पीएम मोदी ने साफ तौर पर देश को बता दिया है कि आज देश जिस पड़ाव पर खड़ा है वहां से आने वाले 25 साल बहुत खास होंगे, जब हम देश की आजादी के 100 साल मना रहे होंगे। बकायादा इसके लिये पीएम मोदी ने विकास का खाका भी खीच लिया है और उसे अमलीजामा पहनाने में भी जुट गये हैं।

नई सोच के साथ बढ़ना होगा आगे

पीएम मोदी ने अपने कई बयान में ये साफ संकेत दे दिया है कि अगर देश को तेजी से विकास के रास्ते पर लेकर चलना होगा तो उसे 20वीं सदी की सोच से बाहर निकलकर 21वीं सदी की सोच के साथ काम करना होगा। छोटे छोटे रिफॉर्म हो या फिर बड़े अब वक्त आ गया है कि भारत इसके लिये तैयार रहे। खासकर मोदी सरकार इसके लिये तैयार दिख रही है। अपने सात साल के काम काज में सरकार ने इसकी झलक भी दिखाई है। फिर वो सर्जिकल स्ट्राइक के तौर पर हो या फिर धारा 370 को हटाकर कश्मीर के मुद्दे पर हो सरकार सख्त और कड़े फैसले लेने से पीछे नही हटी है। इसी का असर है कि देश विश्व में एक अलग जगह बना रहा है और दुनिया भारत को तवज्जो दे रहा है। इतना ही नहीं आर्थिक सेक्टर हो या फिर कृषि सेक्टर हर तरफ ये बदलाव देखने को मिल रहे हैं जिससे भारत आत्मनिर्भर बन रहा है। खुद पीएम मोदी भी देशवासियों से अपील करने में लगे हैं कि नये विचार के साथ आने वाले 25 सालो में देश को आगे ले जाने वाला कोई एक काम जरूर करें ,जिससे देश तेजी से आगे बढ़ सके।

आने वाले सालों में और मजबूत होकर उभरेगा भारत

पीएम मोदी ने हाल ही में एक बयान दिया था और बोला था कि देश में 70 साल में जो मूलभूत सुविधा आम लोगों को नही मिली थी वो पिछले 7 सालों में दी गई है। मसलन गरीबों का खाता खुलवाना हो, सिर पर पक्की छत हो या फिर रोजगार के सेक्टर में अपने पैर पर खड़े होने के लिये कौशल योजना हो या स्टार्टअप से रोजगार दिया जा रहा है। जो ये बताता है कि मूलभूत सुविधा देने में सरकार कामयाब रही है लेकिन अब बड़े लक्ष्य को पूरा करने के लिये बड़े सपने देखने होंगे और इसके लिये देशवासियो को कुछ बड़ा करना होगा। इकोनॉमी में भारत को तेजी से आगे बढ़ाने के लिये मोदी सरकार ने कई नये कदम भी उठाने शुरू कर दिये हैं तो जिस तरह से सड़को का जाल बिछ रहा है। उससे यही लग रहा है कि देश तेजी से दौड़ने के लिए तैयार है। तभी तो कई विदेशी सर्वे करने वाले कंपनियां मान के चल रही है कि भारत अपनी आजादी के 100 साल के करीब आर्थिक तौर पर 2 नबंर पर होगा। यानी वो चीन से बस पीछे होगा। जबकि अमेरिका, रूस सहित कई देश बहुत पीछे होंगे।

नई सोच नई रिति से अब भारत को चलने के लिये पीएम मोदी का ये आवाहन देशवासी समझ गये हैं और ये तो आप अच्छी तरह से जानते हैं कि आज पीएम और देश की जनता के बीच कैसा नाता है पीएम अगर कोई अपील करते हैं तो पूरा देश एक जुट होकर उसे पूरा करने में जुट जाता है। ऐसे में आजादी की 100 सालगिरह में भारत का विश्व गुरू बनना तय है।