पीएम मोदी के मंत्र , आत्मनिर्भर भारत शब्द को मिला ऑक्सफोर्ड हिंदी वर्ड ऑफ द ईयर

ऑक्सफोर्ड ने ‘आत्मनिर्भरता’ शब्द को 2020 का ‘ऑक्सफोर्ड हिंदी वर्ड ऑफ द ईयर’ घोषित किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कोरोना वायरस महामारी के दौरान आत्मनिर्भर भारत का नारा दिया था। उन्होंने भारतीय अर्थव्यवस्था, समाज और व्यक्तिगत तौर पर लोगों को आत्मनिर्भर बनाने पर जोर दिया था।

क्या है ऑक्सफोर्ड हिंदी वर्ड ऑफ द ईयर

कोरोना काल के वक्त जब देश घोर निराशा में डूब रहा था उस वक्त देश को इस निराशा से निकालने के लिए मोदी जी ने देशवासियों को एक मंत्र दिया जो था आत्मनिर्भर भारत ये वो मंत्र है जिसने हमे न केवल कोरोना को हराने कि शक्ति दी बल्कि एक विश्वास भी दिया कि हम कठिनाई कितनी भी हो हर काम को कर सकते है जिसका असर ये हुआ कि देश ने कोरोना को हराने में बढ़त पाई। और आज इस मंत्र को ऑक्सफोर्ड भी सम्मान दे रहा है। ऑक्सफोर्ड वर्ड ऑफ द ईयर  उस शब्द को मिलता है जो लोकाचार, मनोदशा या स्थिति को प्रतिबिंबित करे और जो सांस्कृतिक महत्व के एक शब्द के रूप में लंबे समय तक बने रहने की क्षमता रखता हो और पिछले साल इस शब्द की गूंज खूब सुनाई दी। चलिये अब आपको बताते है कि आत्मनिर्भर का आखिर मतलब क्या होता है।

वो मंत्र जिसने भारत को बनाया नया भारत

आत्मनिर्भर भारत वो मंत्र जिसके जप से आज भारत नया भारत बनकर उभर रहा है। मोदी सरकार के इस मंत्र का कमाल ये देखा गया कि जो काम हम आजादी के 70 साल में नही कर पाये वो काम हमने महज 1 साल में करके दिखा दिया। मसलन जैसे हम देश में वैटिलेटर मशीन बनाने ही नही लगे बल्कि विदेश में निर्यात भी करने लगे। इसी तरह पीपीई किट का निर्माण आज भारत में होने लगा है। ये तो बस एक उदाहरण है लेकिन इस मंत्र और सरकार की मदद के सहारे नजाने कितने लोगों ने खुद का रोजगार शुरू करके भारत को एक तरह से मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की है। फिर वो रक्षा का क्षेत्र हो या फिर दूसरे सेक्टर हो हर सेक्टर में एक बूम देखा जा रहा है और वो बूम है कुछ नया करके दिखाने जिसका नतीजा ये हो रहा है कि भारत तेजी से आर्थिक तौर पर मजबूत हो रहा है। इतना ही नही भारत ने कोरोना वैक्सीन बनाकर आत्मनिर्भर भारत की क्षमता को विश्व में एक अलग स्थान दिया है जिसका लोहा विश्व भी मान रही है। आज हम दुनिया के तमाम देशों में मेक इन इंडिया की वैक्सीन पहुंच गई है या पहुंच रही है जिससे देश का मान बढ़ा है।

पीएम मोदी  के एक मंत्र ने भारत का रुख ही बदलकर रख दिया है और यही वजह है कि आज ऑक्सफोर्ड इस शब्द के मतलब को भी समझ रहा है और इसकी ताकत को भी तभी तो उसने इसको इतने बड़े खिताब से नवाजा है।