स्थापना दिवस पर गरजे पीएम मोदी: परिवारवाद से तंज तो राष्ट्रवाद से सरकार के कामों को जोड़ा 

बीजेपी के 42 स्थापना दिवस के मौके पर पीएम मोदी एक तरफ विपक्ष पर खूब गरजे और बरसे तो दूसरी तरफ उन्होने देश की जनता को ये भी बताया कि आज कैसे हम राजनीति राष्ट्रनीति को सबसे पहले रखकर की जाती है।

कुछ पार्टियों ने वायदे करके, ज्यादातर लोगों को तरसाकर रखा

विपक्ष पर हमला बोलते हुए पीएम मोदी ने विरोधियों पर निशाना साधते हुए बोला कि हमारे देश में दशकों तक कुछ राजनीतिक दलों ने सिर्फ वोटबैंक की राजनीति की। कुछ लोगों को ही वायदे करो, ज्यादातर लोगों को तरसाकर रखो, भेदभाव-भ्रष्टाचार ये सब वोटबैंक की राजनीति का साइड इफेक्ट था। लेकिन बीजेपी ने इस वोटबैंक की राजनीति को ना सिर्फ टक्कर दी है, बल्कि इसके नुकसान, देशवासियों को समझाने में भी सफल रही है। पीएम मोदी ने कहा कि केंद्रीय स्तर पर और अलग अलग राज्यों में कुछ राजनीतिक दल हैं जो सिर्फ अपने परिवार के हितों के लिए काम करते हैं। परिवारवादी सरकारों में परिवार के सदस्यों का स्थानीय निकाय से लेकर संसद तक में दबदबा रहता है। ये लोग भले ही अलग अलग राज्यों में हो, लेकिन परिवारवाद के तार से जुड़े रहते हैं। एक दूसरे के भ्रष्टाचार को ढककर रखते हैं।

BJP Foundation Day: विधायक से लेकर वोटर और सांसद तक बढ़े, विपक्ष लगातार  सिमटा, बीजेपी को पूरे हुए 42 साल | TV9 Bharatvarsh

आज देश के पास नीति भी है नीयत भी

हमारी सरकार राष्ट्रीयता की बात करती है और आज देश के पास नीति भी है नियत भी है। देश के पास निर्णय शक्ति भी है। आज हम लक्ष्य तय कर रहे है उनको पूरा भी कर रहे है। भारत के लिए लगातार नई संभावनाएं बन रही है। सरकार देश हित के ध्यान में रख कर फैसला ले रही है।हम देश के विकास के लिए दिन रात काम कर रहे है। देश के लिए खुद को खपा देना है। सबका साथ सबका विकास के साथ हमे सबका विश्वास मिल रहा है। कोरोना काल में देश ने बड़ा लक्ष्य हासिल किया। जिससे आज देश तेजी के साथ आगे बढ़ पा रहा है।

पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता देश के सपनों का प्रतिनिधि है

इस दौरान पीएम मोदी ने बोला वैश्विक दृष्टिकोण से देखें या राष्ट्रीय दृष्टिकोण से, बीजेपी का दायित्व, पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता का दायित्व लगातार बढ़ रहा है। इसलिए बीजेपी का प्रत्येक कार्यकर्ता, देश के सपनों का प्रतिनिधि है, देश के संकल्पों का प्रतिनिधि है। दुनिया के सामने एक ऐसा भारत किसी दबाव के अपने हितों के लिए खड़े रहा है। जब दुनिया दो ध्रुव में बँटी हो तब भारत को देखा जा रहा है जो मानवता की बात करता है।

2 सीट से आज भारत की राजनीति में ही नहीं दुनिया में सबसे बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी का दर्जा पा चुकी है और महज कुछ सालों में ये इतिहास पार्टी ने रचा है। ऐसे में पार्टी के सभी नेता और कार्यकर्ता के लिए सलाम तो बनता है।