Tokyo Olympics 2020: नाश्‍ते पर ओलिंपियंस के दोस्‍त बन गए मोदी

टोक्यो ओलिंपिक में गए भारतीय दल को पीएम मोदी ने मिलने बुलाया था। उन्‍होंने हर खिलाड़ी से बेहद गर्मजोशी भरे अंदाज में बात की और बीच-बीच में हंसी-मजाक भी करते रहे।

The Prime Minister, Shri Narendra Modi meeting the Members of Indian Contingent to Tokyo2020 Olympics, in New Delhi on August 16, 2021.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ओलिंपिक से लौटे एथलीट्स की मेजबानी की। पीएम आवास पर नाश्‍ते के साथ मोदी ने एथलीट्स से लंबी-चौड़ी बातचीत की। ओलिंपिक के अनुभवों के बारे में जाना, पसंदीदा चीजों के बारे में पूछा और अपनी भी सुनाते रहे। भाला फेंक में गोल्‍ड मेडल जीतने वाले नीरज चोपड़ा से पीएम मोदी ने पूछा कि उन्‍होंने इतनी लंबी दूरी तक भाला कैसे फेंका। पीवी सिंधू ने उन्‍हें बैडमिंटन रैकेट गिफ्ट किया तो पीएम ने कहा क‍ि इसका ऑक्‍शन कराऊंगा। बॉक्सिंग में ब्रॉन्‍ज जीतने वाली लवलीना ने पीएम मोदी को ग्‍लव्‍स भेंट किए। आइए आपको बताते हैं कि पीएम मोदी ने एथलीट्स से क्‍या-क्‍या बात की।

 

पीवी सिंधु को पीएम मोदी ने खिलाई आइसक्रीम

The Prime Minister, Shri Narendra Modi meeting the Members of Indian Contingent to Tokyo2020 Olympics, in New Delhi on August 16, 2021.

जब मोदी ने पूछा, इतनी दूर कैसे फेंका?

नीरज ने पीएम मोदी को एक भाला भेंट किया। उसे हाथ में लेकर मोदी ने सवाल किया, ‘इसे इतनी दूर फेंका कैसे?’

पीएम मोदी ने नीरज चोपड़ा से खूब सवाल-जवाब किए। पीएम ने कहा कि ‘विजय तुम्‍हारे सिर पर नहीं चढ़ती है और पराजय तुम्‍हारे मन में नहीं बैठती है। दोनों चीजें बहुत जरूरी है। मैंने जब भी तुमसे बात की है, हर बार बैलेंसिंग चीजें देखी हैं।’ नीरज ने बताया क‍ि ‘हम 12 लोग होते हैं, फाइनल इकट्ठे खेलते हैं, हमें अपनी परफॉर्मेंस पर ध्‍यान देना होता है। कोशिश यह होती है कि दूसरे की परफॉर्मेंस पर ध्‍यान न दें, उनकी परफॉर्मेंस से नर्वस न हों।’

The Prime Minister, Shri Narendra Modi with the Olympic Gold Medalist, Shri Neeraj Chopra, in New Delhi on August 16, 2021.

मोदी ने नाश्‍ते में नीरज को उनका पसंदीदा चूरमा खिलाया। इसके बाद मजाकिया लहजे में कहा कि ‘लेकिन ये तुम्‍हारा चूरमा तुम्‍हें बहुत परेशान करने वाला है… मान लो…’ फिर पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ा एक किस्‍सा सुनाया।

जब गुलाब जामुन की वजह से बढ़ी अटल की मुसीबत

पीएम मोदी ने बताना शुरू किया। ‘अटल जी पहले पार्टी का भी काम करते थे तो काफी आना-जाना होता था। कई परिवारों में खाना भी होता था। किसी परिवार में भोजन को गए थे। बाद में मीडिया वाले पहुंच गए तो उन्‍होंने बताया कि गुलाब जामुन बहुत अच्‍छे थे। अब वो खबर छप गई पूरे देश में। फिर अटल जी जहां जाते थे, वहां हर जगह गुलाब जामुन… वो बड़े तंग आ गए। एक सर्कुलर निकाला गया कि अटल जी आएंगे तो गुलाब जामुन नहीं, कुछ और भी खिलाओ।’

 

रवि दहिया से पूछा आखिरी सेकेंड्स का हाल

दूसरी मेज पर पहुंचकर पीएम मोदी ने रवि दहिया से पूछा कि आखिरी सेकेंड्स में कैसे कमाल दिखाया। फिर पीएम मोदी ने पूछा कि विपक्षी पहलवान ने कौन से हाथ में काटा… आप फिर भी डटे रहे। पीएम ने यह भी पूछा कि ऐसा करने पर पहलवान के खिलाफ ऐक्‍शन लेते हैं या नहीं। मोदी ने दहिया से एक शिकायत भी की। कहा कि ‘हरियाणा का कोई भी आदमी हो, वह हर चीज में कुछ न कुछ ऐसा कमेंट करेगा कि आप हंस पड़ोगे। रवि से मेरी शिकायत है कि तुम्‍हारा मन करता है कि गोल्‍ड ले आऊं, नहीं आया… लेकिन पोडियम पर तो हंसते दिखते यार! ये क्‍या बात है।”

 

“विनेश निराश नहीं हो सकती”

बजरंग पूनिया से पूछा, पट्टी खोलने का फैसला कैसे कर लिया?

पीएम मोदी ने बजरंग पूनिया से पूछा, ‘और बजरंगी… तुम्‍हारे पैर में इतनी चोट आई, तुम खेलते रहे… पट्टी खोलने का निर्णय कैसे कर लिया तुमने आज?’ पूनिया ने कहा कि सपना होता है कि ओलिंपिक में मेडल जीतूं, तो मैंने सोचा कि अभी पैर टूट भी जाए तो क्‍या मेडल तो जीत जाऊंगा… गोल्‍ड तो नहीं जीत पाया उसकी भरपाई 2024 में करने की कोशिश करूंगा।