एक और ऐतिहासिक भूल को पीएम मोदी ने सुधार करके गुरु गोबिंद सिंह के साहिबजादों को दिया मान

पीएम मोदी को लगातार मिल रहे अपार जनसमर्थन के पीछे जो बड़े कारण हैं उनमें ‘ऐतिहासिक भूलों में सुधार’ की आकंक्षा शीर्ष पर है। देश का एक बड़ा वर्ग मानता है कि इतिहास लेखन में बड़ा छल हुआ है। उनका आरोप है कि देश के जनमानस में बड़ी चालाकी से अत्याचारियों के प्रति गौरव का भाव पैदा किया गया जबकि देश के लिए सर्वस्व न्योछावर करने वाले अनगिनत वीर सपूतों को गुमनामी के अंधेरे में धकेल दिया गया। ऐसा ही ऐतिहासिक अन्याय गुरु गोबिंद सिंह के उन चार बेटों के साथ हुआ जिनकी मुगलों ने हत्या कर दी थी। लेकिन उनकी वीरता भी इतिहास में सिर्फ दफन हो कर रह गई थी जिसे पीएम मोदी ने फिर से जिंदा किया वो भी उन्हे पूरे सम्मान के साथ। पीएम मोदी ने ऐलान किया है कि 26 दिसंबर को गुरु गोबिंद सिंह के साहिबजादों की कुर्बानी को याद करते हुए वीर बाल दिवस मनाया जायेगा।

पीएम मोदी का बड़ा ऐलान

पीएम मोदी ने सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह के उन चारों बेटों को श्रद्धांजलि देने के लिए हर वर्ष 26 दिसंबर को ‘वीर बाल दिवस’ के रूप में मनाने की घोषणा कर दी है। पीएम ने गुरु गोबिंद सिंह के प्रकाश पर्व के अवसर पर ट्वीट किया कि यह ‘साहिबजादों’ के साहस और न्याय स्थापना की उनकी कोशिश को उचित श्रद्धांजलि है। मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘वीर बाल दिवस उसी दिन मनाया जाएगा जब साहिबजादा जोरावर सिंह जी और साहिबजादा फतेह सिंह जी ने दीवार में जिंदा चुनवा दिए जाने के बाद शहीदी प्राप्त की थी। इन दो महान हस्तियों ने धर्म के महान सिद्धांतों से विचलित होने के बजाय मौत को चुना।’ इस बाबत पीएम मोदी ने कहा, ‘माता गुजरी, श्री गुरु गोबिंद सिंह जी और चार साहिबजादों की बहादुरी और आदर्शों ने लाखों लोगों को ताकत दी। उन्होंने कभी अन्याय के आगे सिर नहीं झुकाया। उन्होंने समावेशी और सौहार्दपूर्ण विश्व की कल्पना की। यह समय की मांग है कि और लोगों को उनके बारे में पता चले।’

पीएम मोदी के ऐलान की सराहना

पीएम मोदी की ओर से श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के चार साहिबजादों तथा माता गुजरी की शहादत पर हर साल 26 दिसंबर को देश भर में वीर बाल दिवस के रुप में मनाए जाने के फैसले का सिख तालमेल कमेटी ने स्वागत किया है। कमेटी के प्रमुख तेजिंदर सिंह परदेसी, हरपाल सिंह चड्ढा, हरप्रीत सिंह नीटू, गुरविंदर सिंह सिद्धू, हरविंदर सिंह चितकारा तथा विक्की सिंह खालसा ने कहा कि प्रधानमंत्री का यह फैसला अति सराहनीय है। इतना ही नही इस फैसले से देश के साथ साथ विदेश के सिख समुदाय ने पीएम मोदी का धन्यवाद किया और बोला कि पीएम मोदी लगातार सिखों को सम्मान दिला रहे है।

इतिहास में दबे वो नाम जिन्हे सही मायनो में सम्मान नही मिल पा रहा था आज वो सम्मान ही नहीं पा रहे है बल्कि उनसे देश के आने वाला भविष्य भी अब असल में देश पर मर मिटने वालो को पहचान रहे है और ये भी जान रहे है कि कैसे उन्हे असल इतिहास से सालो दूर रखा गया है।

Leave a Reply