देश में जैसे बढ़े कोरोना के मामले पीएम मोदी ने आगे आकर संभाली कमान

देश में एक बार फिर जैसे ही कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी की खबर सामने आने लगी वैसे ही फिर से एक बार इस महामारी को मात देने के लिये पीएम मोदी ने कमान अपने हाथों में ले लिया है। इसी क्रम में पीएम मोदी ने उन राज्यों के सीएम के साथ बातचीत की जिन राज्यों में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते दिख रहे है। कोरोना को कैसे काबू किया जाये और वैक्सीन आने पर किस तरह से इसका वितरण किया जाये इस बैठक में इसका भी रोडमैप तैयार करने पर बातचीत की गई।

जब हरियाणा के सीएम को बीच में पीएम ने टोका

पीएम मोदी ने अपनी बात रखने से पहले राज्यों के सीएम से उनके राज्यों के हालात के बारे में पूछा कोरोना को लेकर पहले दिन से ही मोदी सरकार सख्त कदम उठाती आई है ये तो सब जानते है और इस मामले पर पीएम मोदी कोई कोताही भी नही देखना चाहते फिर वो राज्य कोई भी क्यो न हो इसी क्रम में जब हरियाणा के उनकी पार्टी के सीएम मनोहर लाल खट्टर जी पीएम को राज्य के ऑकड़ो से अवगत करवा रहे थे तो पीएम ने उन्हे बीच में रोककर आगे की रणनीति बताने के लिये टोका जिससे ये साफ होता है कि पीएम सिर्फ राज्य के सीएम के साथ खानापूर्ति के लिये बैठक नही करते बल्कि चर्चा से अमृत निकले जिससे जनता का फायदा हो इसके लिए बैठक करते है। यहां ये भी आपको बता दे कि पीएम ने कोरोना काल के बीच में राज्यो के सीएम के साथ की गई ये 9वीं बैठक है जो ये बताती है कि पीएम कोरोना के खिलाफ जारी जंग को लेकर कितना संजीदा है।

कोरोना वायरस पर अंतिम प्रहार की तैयारी

पीएम मोदी के साथ हुई राज्यों के सीएम की बैठक में वैक्सीन को लेकर भी चर्चा की गई। किस तरह से वैक्सीन आने पर इसको लोगों तक पहुंचाया जायेगा इस बारे में एक रोडमैप तैयार भी किया गया। हालाकि अभी इसपर कई और दौर की चर्चा हो सकती है जिसके बाद ही कुछ ठोस नतीजा सामने आयेगा। लेकिन इतना तो तय है कि पीएम मोदी सरकार कोई भी आपदा क्यो न हो इससे निपटने के लिये पहले से ही तैयारी कर लेती है तबी तो देश की क्षति अब कम होती है। हालाकि पीएम ने राज्यों से साफ बोला है कि वैक्सीन आने का समय अभी तय नही कर सकते है लेकिन ये मानकर चलिये कि आने वाले साल में वैक्सीन देश आ सकती है क्योकि वैक्सीन को लेकर देश के वैज्ञानिक तेजी से काम कर रहे है। लेकिन उससे पहले जो ऐतियात हम अभी तक बरत रहे है उसपर हमे जोर देना चाहिए। लोगो को मास्क लगाने के लिये ज्यादा जागरूक करना चाहिये समाजिक दूर से कैसे कोरोना से बचा जा सकता है ये बताना चाहिये। इसपर भी चर्चा हुई साथ ही अस्पताल के हालात पर जो खामिया देखी जा रही है उसे दुरूस्त करने की बात कही गई।

कोरोना को लेकर पीएम किस तरह से जागरूक है इस बात से ही इसका अंदाजा लगाया जा सकता है कि पीएम ने कोरोना काल में 9 बार राज्यों के सीएम से चर्चा कर रखी है जो 5 बार खुद सीधे जनता से मुकातिब हुई है। इतना ही नही बिहार चुनाव हो या फिर मन की बात हर मंच से पीएम ने लोगो को कोरोना से जागरूक कखने की बात कही है जिसका ही असर है कि आज दुनिया को देखते हुए भारत बहुत बेहतर स्थिति में है।