पीएम किसान सम्मान निधि योजना ने पूरा किया एक साल, लाभार्थियों के खाते में भेजे गए 50850 करोड़

किसानों के लिए शुरु की गई योजना प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना को एक साल पूरे होने पर सोमवार को दिल्ली में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से 24 फरवरी, 2019 को इस योजना की औपचारिक शुरुआत की थी। जिसमें किसानों को सहयोग के रुप में तीन किश्तों में 6000 रुपये दिए जाने की घोषणा की गई थी। सरकारी आंकड़ों के अनुसार बीते एक साल में 8 करोड़ 46 लाख किसानों को इस योजना का लाभ मिला है।

केंद्र की नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार की महत्वाकांक्षी योजना प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM-KISAN) के तहत अब तक लाभार्थी किसानों के बैंक खाते में केंद्र सरकार द्वारा अब तक 50,850 करोड़ रुपये की धनराशि हस्तांरित की जा चुकी है। यह जानकारी सरकार की ओर से दी गई है।

इस योजना की शुरूआत के दौरान सिर्फ 2 हेक्टेयर तक की कृषि योग्य भूमि रखने वाले सभी छोटे और सीमांत किसानों के परिवारों को शामिल किया गया था। 01 जून 2019 को इसके दायरे को विस्तारित करके इसमें देश के सभी खेतिहर किसानों को शामिल कर लिया गया।

पीएम किसान योजना 1 दिसंबर 2018 से है प्रभावी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने औपचारिक रूप से इस योजना का शुभारंभ 24 फरवरी, 2019 को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में आयोजित एक भव्य समारोह के साथ किया था। लेकिन यह योजना एक दिसंबर, 2018 से ही प्रभावी है। पीएम-किसान सम्मान निधि योजना के तहत लाभार्थी किसानों को हर साल 6,000 रुपये की राशि 2000 रुपये की तीन समान किस्तों में हर चार महीने में सीधे उनके बैंक खातों में हस्तांतरित की जाती है।

देश में फिलहाल करीब 14 करोड़ लाभार्थी

सरकार ने बताया कि इस योजना के तहत अब तक 50,850 करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि जारी की जा चुकी है। कृषि जनगणना 2015-16 के अनुमानों के आधार पर योजना के अंतर्गत आने वाले लाभार्थियों की कुल संख्या लगभग 14 करोड़ है। 20 फरवरी, 2020 तक, राज्य/केंद्र शासित प्रदेश सरकारों द्वारा पीएम-किसान वेब पोर्टल पर अपलोड किए गए लाभार्थियों के आंकड़ों के आधार पर, 8.46 करोड़ किसान परिवारों को इस योजना का लाभ मिला है। उत्तर प्रदेश के सबसे अधिक 1 करोड़ 87 लाख 64 हजार 926 किसानों को इस योजना का लाभ मिला है, वहीं केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के सिर्फ 423 किसानों को इसका लाभ मिला है।

लाभार्थियों का राज्यवार विवरण निम्नलिखित है:

राज्य/केन्द्र शासित प्रदेश किसानों/परिवारों की संख्या –
अंडमान व निकोबार द्वीप समूह 16,521
आंध्र प्रदेश 51,17,791
बिहार 53,60,396
चंडीगढ़ 423
छत्तीसगढ़ 18,80,822
दादरा और नगर हवेली 10,462
दमन और दीव 3,466
दिल्ली 12,896
गोवा 7,248
गुजरात 48,75,048
हरियाणा 14,55,118
हिमाचल प्रदेश 8,72,175
जम्मू और कश्मीर 9,34,299
झारखंड 14,36,023
कर्नाटक 49,12,445
केरल 27,73,306
लक्षद्वीप –
मध्य प्रदेश 55,19,575
महाराष्ट्र 84,59,187
ओडिशा 36,28,657
पुडुचेरी 9,736
पंजाब 22,40,189
राजस्थान 52,04,520
तमिलनाडु 35,34,527
तेलंगाना 34,81,656
उत्तर प्रदेश 1,87,64,926
उत्तराखंड 7,01,855
पश्चिम बंगाल —
अरुणाचल प्रदेश 50,823
असम 27,04,200
मणिपुर 1,73,789
मेघालय 70,236
मिजोरम 67,540
नगालैंड 1,70,334
सिक्किम 1,372
त्रिपुरा 1,96,767
कुल- 8,46,48,328

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने जारी किया मोबाइल ऐप

मोदी सरकार (Modi Government) ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की पहली वर्षगांठ पर किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। सरकार ने किसानों को एक सुनिश्चित नकद सहायता देने की केंद्र की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री किसान योजना (PM-Kisan) से जुड़़ने की आसानी के लिए विशेष मोबाइल ऐप (Mobile App) लॉन्च किया है। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यह ऐप जारी करते हुए कहा कि यह योजना किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य में सहायक है।

इस मोबाइल ऐप का इस्तेमाल कर के किसान अपने भुगतान की स्थिति, आधार कार्ड के अनुसार सही नाम, पंजीकरण की स्थिति और योजना की पात्रता और हेल्पलाइन नंबर इत्यादि की जानकारी ले सकते हैं। मोबाइल ऐप को राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा विकसित और डिज़ाइन किया गया है।