कोरोना के नए वेरिएंट पर पीएम ने जताई चिंता तो पहले से मुस्तैद रहने का किया आह्वान  

दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वेरिएंट के बाद दुनियाभर की सरकारों की चिंताएं बढ़ गई हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक, कोरोना का ये नया वेरिएंट, डेल्टा वेरिएंट के मुकाबले कहीं ज्यादा घातक और संक्रामक है। भारत में हालांकि अभी तक इस नए वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला है, लेकिन एहतियात के तौर पर केंद्र सरकार ने राज्यों को अलर्ट जारी कर दिया है। वहीं, कोरोना वायरस के नए वेरिएंट और देश में टीकाकरण की स्थिति को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी सरकार के बड़े अधिकारियों के साथ एक बैठक भी की

करीब 2 घंटे चली मीटिंग में कोरोना के नए वेरिएंट पर भी चर्चा

नए वेरिएंट की दहशत के बीच पीएम मोदी ने अबी से कोरोना से निपटने के लिये तैयारी शुरू कर दी है। पीएम ने इस बाबत एक हाई लेवल मीटिंग की जिसमे बड़े अधिकारियों के साथ 2 घटे चर्चा चली। इस दौरान पीएम मोदी को कोरोना के मामलों पर वैश्विक रुझानों के बारे में जानकारी दी गई। इसमें बताया गया कि दुनियाभर के देशों ने महामारी की शुरुआत के बाद से कई बार कोरोना में उछाल का अनुभव किया है। लेकिन भारत में अभी तक तो इसकी संभावना कम ही देखी गई है। हालांकि नये वेरिएंट तेजी से नुकसान पहुंचा रहा है ऐसे में इससे निपटने के लिये नई रणनीति बनाई गई। इतना ही नही पीएम मोदी ने टीकाकरण में प्रगति और ‘हर घर दस्तक’ अभियान के तहत किए जा रहे प्रयासों को भी जाना। मोदी जी  ने निर्देश दिया कि दूसरी खुराक का दायरा बढ़ाने की जरूरत है और राज्यों को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि जिन लोगों को पहली खुराक मिली है, उन्हें दूसरी खुराक समय पर दी जाए जिससे नए वेरिएंट से निपटा जा सके। इतना ही नही कई देशों से विमान सेवा रोकने पर भी चर्चा हुई है। हालाकि अभी इस पर कोई फैसला नही लिया गया है। लेकिन गुजरात ने अपनी तरफ से ऐतियातन ब्रिटेन, चीन देश से आये लोगों की गहन जांच के आदेश दिये है।

नए वेरिएंट के बीच जीनोम सीक्वेंसिंग बढ़ाने को बोले पीएम मोदी

इस दौरान पीएम मोदी ने निर्देश दिए कि जीनोम अनुक्रमण के नमूने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों और कम्युनिटी के नॉर्म्स के हिसाब से एकत्र किए जाएं। INSACOG के तहत पहले से स्थापित लैब और कोविड मैनेजमेंट के वॉर्निंग सिग्नल के माध्यम से टेस्ट किए जाएं। पीएम मोदी ने जीनोम अनुक्रमण और अधिक बढ़ाने पर जोर दिया। पीएम ने नए वेरिएंट को लेकर सजग रहने के निर्देश दिए। पीएम ने कहा कि नए खतरे को देखते हुए लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है और उचित सावधानी बरतने की जरूरत है जैसे मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग। पीएम ने नए वेरिएंट से प्रभावित देशों पर विशेष ध्यान देते हुए अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढील देने की योजना की समीक्षा भी की। वही पीएम ने अधिकारियों से PSA ऑक्सीजन संयंत्रों और वेंटिलेटर के उचित कामकाज को सहन करने के लिए राज्यों के साथ समन्वय करने को कहा। साथ ही दवाई का स्टॉक रखने के लिये राज्य और केंद्र के बीच बातचीत करने को भी बोला।

वैसे तो पीएम मोदी ने नए वेरिएंट को लेकर चिंता तो जताई लेकिन इसको लेकर पहले से सजग रहने की अपील भी की। जहां एक ओर प्रशासनिक अमले को चौकस और मुस्तैद रहने की हितायद दी तो आम लोगों से भी जागरूक रहने की बात कही जिससे ये वेरिएंट देश में दहशत ना फैला पाये।