इकॉनमी को उबारने के लिए पीएम ने की 50 लोगों से चर्चा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश में तेजी के साथ अर्थव्यवस्था सुधरे इसके लिए खुद अब मोर्चा पीएम मोदी ने संभाल लिया है।  जिसके चलते देश के 50 तेज अफसरों के साथ पीएम मोदी ने एक खास बैठक कि जिससे देश की इकॉनमी में तेजी लाया जा सके।

पीएम मोदी की अर्थव्यवस्था को ठीक करने की पहल

कोरोना महामारी के बाद बेपटरी हुई देश की अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए कई स्तरों पर प्रयास किए जा रहे हैं। अब तक इस दिशा में मोदी सरकार की तरफ से कई कदम भी उठाए जा चुके हैं। कोविड-19 महामारी के राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव का आकलन करने के लिए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वित्त और वाणिज्य मंत्रालय से जुड़े शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री का फोकस अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार पर होगा क्योंकि पिछले कुछ महीने से उपभोक्ता की मांग में भारी गिरावट के चलते मंदी देखी जा रही है। करीब डेढ़ घंटे तक चली इस बैठक में  प्रधानमंत्री ने करीब 50 शीर्ष अधिकारियों से राय लिये कि कैसे भारतीय अर्थव्वस्था की रफ्तार बढ़ाई जाये। ऐसे माना जा रहा है कि जो खाका अर्थव्यवस्था को लेकर तैयार किया गया है उसमे आने वाले दिनो में छोटे कारोबारियों को बड़ी राहत दी जा सकती है और कई तरह के नये राहत पैकेज का ऐलान भी किया जा सकता है। लेकिन इतना तो तय है कि इस बैठक के बाद अर्थव्यवस्था में छाई बदली को साफ करने का रास्ता तो निकल आया है।

सरकार पहले दे चुकी है बड़ा राहत पैकेज

यहां ये भी बता दें आपको कि इस बैठक के पहले कोरोना संकट की चुनौतियों से निपटने के लिए सरकार ने मई में व्यवसाय को पुनर्जीवित करने और आर्थिक बहाली के रोडमैप का स्वरुप तय करते हुए 20.97 लाख करोड़ एक बड़े वित्तीय ऐतिहासिक पैकेज का ऐलान किया गया था। केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि सरकार कोविड-19 का भारतीय अर्थव्यवस्था पर पड़े प्रभाव का आकलन कर रही है और अगर जरूरत पड़ी तो और उपाय किए जाएंगे। वहीं  रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास   की माने तो  भारतीय अर्थव्यवस्था के सामान्य स्थिति की तरफ लौटने के संकेत दिखने लगे हैं। लॉकडाउन के तहत लागू विभिन्न प्रतिबंधों में ढील दिये जाने के बाद गतिविधियां बढ़ी हैं। इसके साथ-साथ कोरोना काल में विश्व बाजार का विश्वास भी भारत पर बढ़ा है जिसके चलते महज पिछले तीन महीनो में भारत में विदेशी निवेश में 20 मिलियन का इजाफा हुआ जो एक अच्छा संकेत है। जिससे कयास लगाये जा रहे हैं कि देश में रोजगार में तेजी आयेगी और बाजार में पैसे की कमी दूर होगी। जिससे उत्पादन तेजी के साथ बढ़ेगा और देश की इकॉनमी की गाड़ी तेज रफ्तार में दौड़ेगी इसके साथ जानकारों की माने तो अच्छी बारिश के चलते भी देश में आर्थिक तंत्र मजबूत होगा जो एक शुभ संकेत है।

बहरहाल पीएम के साथ देश के 50 बेहतरीन अफसरो के साथ हुए इस मथंन से जरूर कुछ अमृत निकला होगा जिससे आने वाले दिनो में भारत की इकॉनमी नये आयाम को छू सकेगी


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •