बढ़ेगी नौसेना की शक्ति, छह परमाणु पनडुब्बी के साथ पुरे 24 पनडुब्बियों का होगा निर्माण

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री मोदी के सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है सेना को अत्याधुनिक साजो-सामान से लैस करना| सेना के आधुनिकीकरण के प्रति सरकार की उदारता का ही परिणाम है कि सेना के सभी अंग खुल कर अपनी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने के लिए सरकार के साथ मिलकर प्रतिबध्धता से कार्य कर रहे हैं|

नौसेना ने भेजी 24 पनडुब्बियों का होगा निर्माण

नौसेना ने संसदीय समिति को 24 पनडुब्बियों के निर्माण की योजना सौंपी है| इन 24 पनडुब्बियों में से छः परमाणु उर्जा चालित हमलावर पनडुब्बियां होगी| इस योजना के पूर्ण होने के बाद भारतीय नौसेना की हमलावर शक्ति कई गुना बढ़ जाएगी|

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में भारतीय नौसेना के पास  15 पारंपरिक और दो परमाणु पनडुब्बियां (आईएनएस अरिहंत और आईएनएस चक्र) हैं। आईएनएस चक्र को रूस से करार के अंतर्गत लिया गया है।

क्यों जरुरी है नौसेना का आधुनिकीकरण

नौसेना द्वारा इस महीने भेजी रिपोर्ट में बताया गया है कि भारतीय नौसेना के बड़े में फिलहाल जितनी भी पनडुब्बियां हैं, उनमें से अधिकतर 25 वर्ष से ज्यादा पुरानी है| भारत के समुद्री सीमा से सटे पड़ोसी देशों में से एक चीन अपने नौसेना के आधुनिकीकरण में जोर-शोर से लगा है|

भारतीय नौसेना के लिए निर्णायक हिंद महासागर क्षेत्र में चीनी नौसेना की गतिविधियां बढ़ रही हैं, ऐसे में भारतीय नौसेना के लिए अपने बेड़े का आधुनिक करना आवश्यक हो जाता है| इसीलिए भारतीय नौसेना अपनी ओर से अपने आधारभूत ढांचे में सुधार करने की कोशिश कर रही है जिसमें 24 पनडुब्बियों के निर्माण के साथ-साथ नए पोतों की खरीद भी शामिल है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •