जल्द मिलेगा मोदी राज में 50 रूपये लीटर पेट्रोल

वैसे तो विश्व में जिस तरह की आर्थिक हालात बने हुए है वैसे में भारत में मंहगाई उतनी तेजी से लोगों को परेशान नही कर रही है, जितना दूसरे देशों में लोग परेशान हैं।  ऐसे में एक अच्छी खबर ये है कि कच्चे तेल को लेकर सऊदी अरब और रूस के बीच चल रही प्राइस वॉर के चलते आपको जल्द मोटा फायदा हो सकता है। आपकी जेब में खर्च के लिए ज्यादा पैसा बच सकता है, पेट्रोल आपको 50 रुपये के दाम पर मिल सकता है।

31% लुढ़का क्रूड का भाव

अंतर्ररष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव में 31 फीसदी की कमी देखी जा रही है। इसका कारण सऊदी अरब द्वारा कीमतों में कटौती करना था। सउदी ने रूस से ‘बदला’ लेते हुए दाम घटा दिए क्योंकि रूस ने उत्पादन घटाने की उसकी बात नहीं मानी। इससे प्राइस वॉर छिड़ गया है। भारत को इससे जल्द फायदा मिल सकता है। अगर 30 पर्सेंट तक की गिरावट के लिहाज से देखें और मान लें इंपोर्ट बिल घटने से होने वाली पूरी बचत ग्राहकों तक पहुंच जाती है तो घरेलू बाजार में पेट्रोल के दाम 50 रुपये के करीब पहुंच सकते हैं। आज देशभर में पेट्रोल के दाम 70 रुपये के आसपास हैं।

क्रूड बास्केट के दाम

भारत के क्रूड बास्केट की कीमत फिलहाल 47.92 डॉलर प्रति बैरल है, यानी भारत को मौजूदा दाम पर एक क्रूड बास्केट के लिए 3530.09 रुपये खर्च करने होते हैं। ऐसे में क्रूड अगर 30 पर्सेंट सस्ता हो गया है तो क्रूड बास्केट के भी जल्द 30 पर्सेंट तक सस्ता होने की गुंजाइश बनती है। यानी अगला क्रूड बास्केट करीब 2470 रुपये का हो सकता है। और अगर आम आदमी को अगर पूरा फायदा पहुंचता है तो पेट्रोल इस लिहाज से भी 50 रुपये लीटर के भाव मिल सकता है। पेट्रोलियम प्लैनिंग ऐंड ऐनालिसस सेल के मुताबिक, दिसंबर 2019 में क्रूड बास्केट की औसत लागत $65.52 थी।

जब सस्ता होता है तेल

जब तेल सस्ता होता है तो सरकार का इंपोर्ट बिल घट जाता है और सब्सिडी पर कम खर्च होता है। इससे बैलंस ऑफ पेमेंट्स की स्थिति में सुधार होता है। इसके अलावा, सस्ता तेल से कॉस्ट ऑफ लिविंग घटती है, ब्याज दरें घटती हैं, जिससे आम आदमी के पास खर्च योग्य पैसा बढ़ता है।

इसके साथ साथ कोराना वायरस का असर भी देखा जा रहा है जिससे विश्व बाजार में तेल के दाम लगातार गिर रहे है। लेकिन इस बीच में भारत का एक फायदा जरूर हो रहा है कि तेल भारत को सस्ता आने वाले दिनो में मिल सकता है जिससे देश में महंगाई जरूर घटेगी जो देशवासियों के लिए अच्छी खबर है।