संयुक्त राष्ट्र द्वारा अपील खारिज किये जाने के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने बंद किया थार एक्सप्रेस

Pakistan stops Thar express

कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 को भारतीय सरकार ने 6 अगस्त को ख़त्म कर दिया | ज़ाहिर सी बात है सरकार के इस फैसले के बाद अब कश्मीर भी अन्य राज्यों की तरह ही पूरी तरह से केंद्र शाषित राज्य बन जाएगी और ऐसा होने से पाकिस्तान जो कश्मीर में अलगाववाद और आतंकवाद को बढ़ावा देता है, अब उसके मंसूबे हर तरह से पश्त हो गए है | कश्मीर को अपना बनाने का सपना देखने वाले पाकिस्तान को अब अपने मंजिल का हर रास्ता बंद होता हुआ नज़र आ रहा है | इसीलिए तो पाकिस्तान पूरी तरह तिलमिलाया हुआ है |

बौखलाया हुआ पाकिस्तान कभी राजनयिक संबंधों का दर्जा घटाने का फैसला ले रहा है तो कभी द्विपक्षीय व्यापार और समझौता एक्सप्रेस को रोकने की बात कर रहा है | अपनी बेचैनी का एक और सबूत देते हुए पाकिस्तान ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह थार एक्सप्रेस की सेवा रद्द कर देगा जो राजस्थान सीमा के जरिए भारत और पाकिस्तान के बीच चलती है साथ ही दिल्ली-लाहौर बस सेवा को भी निलंबित करने का ऐलान किया है | पाकिस्तान सरकार के इस फैसले का ऐलान करते हुए पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख राशिद अहमद ने कहा की शुक्रवार की देर रात को अंतिम बार ये ट्रेन भारत के लिए रवाना होगी | साथ ही रेला मंत्री साहब ने ये भी कहा की- ‘जब तक मैं रेल मंत्री हूं थार और समझौता एक्सप्रेस की सेवाएं रद्द रहेंगी |’

जोधपुर से कराची के बीच चलती है थार एक्सप्रेस

41 साल स्थगित रहने के बाद 18 फ़रवरी 2006 को थार एक्सप्रेस की शुरुआत की गयी थी जो जोधपुर के भगत की कोठी स्टेशन से होकर कराची तक हर शुक्रवार की रात को चलती है | यह ट्रेन राजस्थान सीमा के आर-पार रहने वाले लोगों के बीच काफी लोकप्रिय रही है और उन पाकिस्तानी हिंदुओं की पसंदीदा भी है जो भारत आना चाहते थे | एक आंकडे के मुताबिक बीते 13 सालों में चार लाख से अधिक यात्रियों ने इस रेलगाड़ी से यात्रा की है |

इमरान ने कहा युद्ध जैसी स्थितियां उत्पन्न कर रहा है भारत

जैसे पुलवामा हमले के बाद भारतीय सेना की जवाबी कारवाई, एयर स्ट्राइक को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने युद्ध जैसी परिस्थितियां पैदा करने का आरोप लगाया था ठीक उसी तरह फिर वो भारत पर इलजाम लगा रहे है की भारत दुनिया का ध्यान कश्मीर मुद्दे से हटाने के लिए युद्ध जैसे हालत पैदा कर रहा है | इमरान खान के इस बोल बच्चन का समर्थन करते हुए एक्सप्रेस ट्रिब्यून नाम की पत्रिका ने लिखा है की- ‘खतरा वास्तविक है। हमें इस तरह की स्थिति पर जवाब देना होगा और हमने इसी तरह से दुनिया में देशों के बीच युद्ध शुरू होते हुए देखा है |’

पाकिस्तान का आरोप है की अमेरिका द्वारा कश्मीर मामले में मध्यस्थता की पेशकश के बाद भारतीय सरकार ने जल्दबाजी में ये फैसला लिया है | अब भला पाकिस्तान को कौन समझाए की इस फैसले की घोषणा लम्बे समय की तैयारी के साथ हुई है | पाकिस्तान ने ये भी कहा की युद्ध किसी भी समस्या का समाधान नहीं है पर फिर भी हम लगातार कोशिश कर रहे है की कश्मीर की परिस्थितयों से पूरी दुनिया को रूबरू कर सके | पाकिस्तान और उसके बोलबच्चन, इनके हाथ आता तो कुछ है नहीं पर अपने आप को बेचारा साबित करने में कोई कसर ये छोड़ते भी नहीं है |

हाई अलर्ट पर है भारतीय वायुसेना

इस फैसले के बाद पाकिस्तान की सरकार में पैदा होने वाली तिलमिलाहट से भारतीय सरकार पहले से ही रूबरू थी तभी तो फैसले की घोषणा से पहले ही घाटी के सुरक्षा को पूरी तरह से पुख्ता कर दिया था | उसके साथ ही भारतीय वायुसेना को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है ताकि विपरीत स्थिति में वो हर मुसीबत के लिए तैयार रहे |

पाकिस्तान की बौखलाहट और उसके द्वारा लिए जा रहे छोटे-छोटे कदम, संयुक्त राष्ट्र द्वारा ठुकराए गए उसके आर्टिकल 370 के मामले में हस्तछेप करने के अपील को साफ़ ज़ाहिर कर रहे है | दुनिया के सभी बड़े देशों ने भारत द्वारा लिए गए फैसले का समर्थन किया है जिससे पाकिस्तान की बेचैनी अपने चरम सीमा पर पहुँच गयी है | खैर पाकिस्तान समझौता एक्सप्रेस बंद करे या थार एक्सप्रेस इसका नुकसान भारत से ज्यादा पाकिस्तान को झेलना पड़ेगा और कश्मीर तो अब उसके हाथ आने से रहा चाहे वो अपना सर पिटे या पैर |