फिर संकट मे घिरा पाकिस्तान, आईएमएफ ने राहत पैकेज की समीक्षा टाली

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के लिए छह अरब डॉलर के राहत पैकेज की शुक्रवार को होने वाली दूसरी समीक्षा को यह कहते हुए टाल दिया है कि वह तय कार्रवाइयों को लागू करने में देरी कर रहा है। आईएमएफ के कार्यकारी बोर्ड ने पिछले साल जुलाई में पाकिस्तान को तीन साल में छह अरब डॉलर का कर्ज देने को मंजूरी दी थी। बदले में पाकिस्तान को कुछ बेहद सख्त उपायों को लागू करना था। 

चीन, सऊदी अरब और यूएई से कर्ज के बाद भी पाकिस्तान परेशान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सत्ता में आने के बाद एक बेलआउट पैकेज के लिए अगस्त 2018 में आईएमएफ से संपर्क किया था।  खान को बढ़ते आर्थिक संकट के कारण चीन, सऊदी अरब और यूएई से कर्ज लेने के बावजूद आईएमएफ का रुख करना पड़ा। आईएमएफ ने राहत पैकेज की दूसरी समीक्षा को स्थगित किए जाने की पुष्टि की है, लेकिन कहा कि 1.4 अरब डॉलर के त्वरित वित्तपोषण सुविधा के लिए उसकी प्राथमिकताएं अब बदल गई हैं। 

पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने द एक्सप्रेस ट्रिब्यून को बताया कि आईएमएफ ने 10 महीने पुराने ऋण कार्यक्रम की दूसरी समीक्षा को मंजूरी देने में किसी देरी के बारे में उसे नहीं बताया है।  सूत्रों ने कहा कि आईएमएफ बोर्ड अक्टूबर-दिसंबर 2019 के लिए दूसरी समीक्षा को 10 अप्रैल को मंजूरी देने के पाकिस्तान के अनुरोध को शायद नहीं मानेगा।

पहले इस समीक्षा को मंजूरी देने के लिए छह अप्रैल की तारीख तय थी, जिसे बढ़ाकर आईएमएफ ने 10 अप्रैल कर दिया था। आईएमएफ ने दूसरी समीक्षा को मंजूरी देने के लिए नई तारीख की घोषणा नहीं की है, लेकिन माना जा रहा है कि इसे अप्रैल में मंजूरी मिल जाएगी।

आतंकवाद को बढ़ावा देने का झेल रहा परिणाम

पाकिस्तान की ये हालत आतंकवाद को बढ़ावा देने की वजह से हुई है | कई सालों से पाकिस्तान पर ये आरोप लगते रहे हैं कि पाकिस्तान सुनुयोजित तरीके से आतंकवाद को बढ़ावा देता है तथा अपनी जमीन पर उन्हें पनाह भी देता है | साथ ही पाकिस्तान मे जो आतंकवादी पकड़े भी जाते हैं उन्हें भी उचित सजा नही दी जाती |

इन्ही आरोपों को लेकर भारत काफी समय से मांग कर रहा था कि पाकिस्तान पर कार्रवाई हो | पीछले कुछ समय मे भारत को अमेरिका का साथ भी मिला | अमेरिका ने भी विगत कुछ वर्षों मे आतंकवाद पर भारत का साथ देते हुए पाकिस्तान पर कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है | 

संकट मे पाक की अर्थव्यवस्था

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था वैसे ही अधर मे लटकी है | उसकी अर्थव्यवस्था की डूबती नाव को आईएमएफ का सहारा था | अब इसके भी मना करने की स्थिति मे पाकिस्तान  के पास कोई रास्ता नही बचा है |