पाक मीडिया इमरान खान का उड़ा रहा है मजाक

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को UNGA के 74वें सत्र को संबोधित करते हुए दुनिया को इस्लामोफोबिया से ग्रसित बताया। एक तरफ जहां पीएम नरेंद्र मोदी ने विश्व शांति, जलवायु परिवर्तन और आतंकवाद जैसे अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर बात की, वहीं इमरान खान ने धमकी भरे लहजे में कहा कि वह भारत के खिलाफ परमाणु हथियार का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे पहले कि परमाणु युद्ध हो संयुक्‍त राष्‍ट्र की जिम्मेदारी है कि वह इसे टालने के लिए पहल करे। बता दें कि हर सदस्‍य देश के नेता को अपनी बात रखने के लिए लगभग 15 मिनट का समय दिया दिया जाता है। एक ओर PM Modi ने 17 मिनट में अपनी बात पूरी कर ली वहीं इमरान सायरन बजने के बाद भी बोलते रहे। विश्‍व मंच पर इस रवैये और जम्‍मू-कश्‍मीर के मुद्दे पर मिली असफलता को लेकर अब इमरान अपने मुल्‍म में ही घिर गए हैं। पाकिस्‍तानी मीडिया में उनकी जमकर किरकिरी हो रही है।

Imran_Khan_Cartoon

जुते घोड़े के रूप में नजर आए इमरान

दरअसल, इमरान खान कश्‍मीर के मसले पर दुनियाभर में समर्थन जुटाने की कोशिश कर रहे थे लेकिन हर मोर्चे पर उन्‍हें असफलता ही हाथ लगी। पाकिस्‍तानी अखबार ‘द नेशन’ ने एक कार्टून प्रकाशित किया है। इसमें इमरान को एक घोड़ा गाड़ी में जुते घोड़े के तौर पर दर्शाया गया है। इस कार्टून में अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप बतौर सारथी की भूमिका में इमरान खान को हांकते हुए नजर आ रहे हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शान से बग्‍घी पर सवार हैं और उनके कंधों पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप का दोस्‍ताना हाथ नजर आ रहा है। मीडिया रिपोर्टों की मानें तो इस कार्टून पर जब पाकिस्‍तानी हुक्‍मरानों की नजर पड़ी तो उन्‍होंने अखबार पर कथित तौर पर दबाव बनाया जिसके बाद ‘द नेशन’ को माफी मांगनी पड़ी है।

Imran_Khan_Cartoon

बयानबहादुर मंत्रियों को लेकर भी घिरे

पाकिस्‍तान में इन दिनों सरकार के मंत्रियों का बड़बोलापन पर भी खूब चटखारे लिए जा रहे हैं। लोग इमरान खान और उनके बयानबहादुर मंत्रियों की जमकर खिल्‍ली उड़ा रहे हैं। यही नहीं पाकिस्‍तानी मीडिया में भी इमरान खान सरकार की जमकर आलोचना हो रही है। पाकिस्‍तानी अखबार ‘द फ्राइडे टाइम्‍स’ ने एक कार्टून प्रकाशित किया है। इस कार्टून के जरिए यह दिखाने की कोशिश की गई है कि इमरान खान और उनके मंत्रिमंडल में भारी कम्‍यूनिकेशन गैप है। एक ही मुद्दे पर पाकिस्‍तान के मंत्री और प्रवक्‍ता अलग अलग बयान दे रहे हैं।

Imran_Khan_Cartoon

मुस्लिम मुल्‍कों को न साध पाने पर उड़ रही खिल्‍ली

पाकिस्‍तानी अखबार डॉन ने एक मजाकिया कार्टून छापा है। इसमें दिखाया गया है कि कश्‍मीर मसले पर इमरान खान के साथ दुनिया के मुस्लिम मुल्‍क भी नहीं आना चाहते हैं। इससे पहले एक रिपोर्ट आई थी जिसमें मुस्लिम मुल्‍कों ने इमरान खान को साफ शब्‍दों में कह दिया था कि वह भारत के साथ रिश्‍तों को सुधारने की दिशा में काम करें। पाकिस्‍तानी अखबार ‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, मुस्लिम मुल्‍कों ने पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को भी यह नसीहत दी थी कि वह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ तल्‍ख बयानबाजियों से बाज आए और बातचीत के टोन को नीचे रखें ताकि दोनों देशों के बीच कश्‍मीर मसले को लेकर उपजे तनाव को कम किया जा सके।

Imran_Khan_Cartoon

अमेरिका ने भी छोड़ा हाथ

पाकिस्‍तान के ही अखबार ‘द न्‍यूज’ ने एक कार्टून में दिखाया है कि पाकिस्‍तान का पुराने मित्र अमेरिका ने भी उससे मुंह मोड़ने शुरू कर दिए हैं। अखबार ने एक ही तस्‍वीर में दो दृश्‍य उकेरे हैं, एक में भारत और अमेरिका के गर्मजोशी भरे मित्रता के हाथों को दिखाया गया है तो दूसरी ओर पाकिस्‍तान से दूर होते अमेरिकी हाथ को चित्रित किया गया है। दरअसल, हाउडी मोदी कार्यक्रम के बाद अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप का भारत के प्रति नजरिये में आमूलचूल बदलाव आया है। आतंकवाद के मसले पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने साफ कर दिया है कि भारत इससे निपटने में पूरी तरह सक्षम है। एक अन्‍य रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका ने पाकिस्‍तान से दो टूक कह दिया है कि वह भारत के खिलाफ जहर उगलने की बजाए अपने यहां आतंकियों पर ठोस और निर्णायक कार्रवाई करे।

Imran_Khan_Cartoonपीएम मोदी को भारी पड़ता दिखाया

इसमें कोई दो राय नहीं कि पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री को इस विदेश दौरे से कुछ भी हासिल नहीं हुआ है। अमेरिका में पीएम मोदी का जिस तरह भव्‍यता से स्‍वागत हुआ उससे साफ है कि इमरान अब ट्रंप के चहेते नहीं रहे। पाकिस्‍तानी अखबार ‘द न्‍यूज’ ने एक कार्टून में प्रधानमंत्री मोदी और इमरान खान को सी-सॉ खेलते दिखाया गया है। इसमें अखबार ने साफ दिखाया है कि अंतरराष्‍ट्रीय राजनीति में पीएम मोदी का पलड़ा भारी है। यही नहीं इस कार्टून में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी पीएम मोदी की तरफ ही खड़े नजर आ रहे हैं। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि अमेरिका ने इमरान को जो झटका दिया है उससे वह हवा में झूलते नजर आ रहे हैं।

(Disclaimer: This article is not written By IndiaFirst, Above article copied from Jagran)