कई भावों से भरे हमारे पीएम मोदी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पीएम मोदी वो नाम है जो आज समूचे विश्व में गूंज रहा है, दुनिया का कोई भी छोर नही जहां पीएम मोदी के आज की तारीक में चाहने वाले न हो लेकिन कभी आप ने सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों है तो आपको बता दें दुनिया के सबसे बड़े लोकतन्त्र देश के पीएम  होते हुए भी मोदी जी में अहंकार नही है। उनकी सादगी ही है जो लोगों को उनसे जोड़ती है। क्योंकि पीएम मोदी ही एक ऐसे नेता है जिसके मन में जो है वही सामने भी दिखता है।  इसकी एक ऐसी ही  छवि फिर से कल राम मंदिर के भूमिपूजन में देखने को मिली। चलिए डालते हैं उस पर एक नजर..

राम के दरबार में किया साष्टांग प्रणाम

पीएम मोदी पर कई लोग ये आरोप लगाते हैं कि वो काफी सख्त स्वभाव के है लेकिन ऐसा नही है, पीएम के अंदर बिलकुल भी अहंकार वास नही करता है। तभी तो वो बिना झिझक के हजारों कैमरों के सामने बिना संकोच के  साष्टांग प्रणाम करते हुए दिखाई देते हैं। ऐसा वो एक बार नही कई बार कर चुके हैं। भाव से भरे पीएम मोदी ने सत्ता संभालने के बाद पहली बार लोकसभा पहुंचने पर लोकतंत्र के मंदिर में माथा टेका था और दोबारा उनका यही रूप राम लला के दर्शन करते हुए देखा गया है। जिससे साफ पता चलता है कि वो भाव से भरे हुए ऐसे वक्ति हैं जो दिल में होता है वही करते है फिर स्थान कोई भी क्यों न हो।

मोदी जी की सादगी की दिवानी दुनिया

पीएम मोदी की सादगी की दीवानी आज पूरी दुनिया है। ऐसी छवि पीएम के भाषणो में ही नही बल्कि चाल ढ़ाल वस्त्र पहनावे में भी देखने को मिलता है। राम मंदिर में प्रभु राम के दर्शन करने के लिए पीएम मोदी ने जिस तरह से पारंपरिक वस्त्र कुर्ता धोती पहनी उससे यही लगता है कि पीएम मोदी एक भक्त के तौर पर अपने प्रमु राम से मिलने आये हुए हो इस मौके पर पीएम मोदी ने अपने भाषण से भी सिध्द किया कि राम सबके हैं राम हम सबके है मंच से उन्होने एक संदेश ये भी दिया कि ये मंदिर भारत की छवि को विश्व में निखारेगा और मंदिर बनने में सिर्फ उनकी भूमिका नही बल्कि समूचे भारतवासियों की मेहनत का नतीजा है जो ये बताता है कि मोदी जी किस तरह से सभी कामो में देशवासियों का सहयोग बताकर एकता की झलक दिखाते हैं।

कुल मिलाकर पीएम मोदी की यही सादगी है कि आज करोड़ों लोग उनकी बात को मान रहे हैं और जो वो कहते हैं उसे करते हैं। क्योंकि देश की जनता अच्छी तरह से समझ गई है कि पीएम मोदी आज के दौर में मिला उन्हें वो नगीना है जो सिर्फ दूसरों के परोपकार के लिए जी रहा है और काम कर रहा है। उसके भाव में सिर्फ देश का कल्याण और लोकहित सबसे ऊपर है। खुद पीएम मोदी भी कई बार इस बात को बता चुके हैं। लेकिन आज उनकी इस बात पर पूरा भरोसा होता है कि वो जो कहते हैं वो सच कहते हैं। इसलिये आज वो देशवासियों के दिल में रहते हैं।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •