दुनिया भर को शरणार्थी अधिकारों का ज्ञान देनेवाले शरणार्थियों लिए बने CAA का विरोध करते हैं: PM मोदी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री मोदी ने आज दो दिवसीय ग्लोबल बिजनेस समिट 2020 में हिस्सा लिया। जिसमें उन्होंने सीएए, कोरोनावायरस और आर्टिकल 370 का भी मुद्दा उठाया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्लोबल बिजनेस समिट को संबोधित करते हुए कहा कि जो लोग दुनिया भर को शरणार्थी अधिकारों के लिए ज्ञान देते हैं, वही लोग शरणार्थियों के लिए बने CAA का विरोध करते हैं। जो लोग दिन रात संविधान की दुहाई देते हैं, वो आर्टिकल 370 जैसी अस्थाई व्यवस्था हटाकर, जम्मू-कश्मीर में पूरी तरह संविधान को लागू करने का विरोध करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना वायरस को लेकर भी चिंता जताई और कहा कि इससे निपटना दुनिया के सामने एक बड़ी चुनौती है।

‘यथास्थिति को तोड़ना हमारी प्रतिबद्धता’

उन्होंने अपने भाषण में कहा-‘हमारे सामने मार्ग था कि पहले से जो चलता आ रहा है, उसी मार्ग पर चलें या फिर अपना नया रास्ता बनाएं, नई अप्रोच के साथ आगे बढ़ें। हमने नया मार्ग बनाया, नई अप्रोच के साथ आगे बढ़े और इसमें सबसे बड़ी प्राथमिकता दी- लोगों के Aspirations को।’ उन्होंने कहा- एक दौर ऐसा था जब एक खास वर्ग के Predictions के अनुसार ही चीजें चला करती थीं। जो राय उसने दे दी, वही फाइनल समझा जाता था। लेकिन Technology के विकास से और Discourse के ‘Democratization’ से, अब आज समाज के हर वर्ग के लोगों की Opinion Matter करती है।

प्रधानमंत्री ने की अर्थव्यवस्था की बात

अर्थव्यवस्था की बात करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि अभी हाल ही में भारत विश्व की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना है। जब 2014 में जब हम आए थे तो हम 11वें स्थान पर थे। उन्होंने कहा कि ये भी एक अनुभव रहा है कि जिस क्षेत्र में प्राइवेट सेक्टर को Compete करने की छूट दी जाती है, वो तेजी से आगे बढ़ता है। इसलिए हमारी सरकार अर्थव्यवस्था के ज्यादा से ज्यादा सेक्टर्स को प्राइवेट सेक्टर के लिए खोल रही है।

कोरोनावायरस की बात

देश में कोरोना वायरस को लेकर बढ़ते खौफ के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि हर दौर एक नई चुनौती लेकर आता है। लेकिन यह साथ मिलकर उससे निपटने का जज्बाद भी पैदा करता है। आज कोरोना वायरस के रूप में दुनिया के सामने एक ऐसी ही चुनौती है।

प्रधानमंत्री ने की रेलवे की बात

नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ वर्ष पहले आए दिन रेलवे क्रासिंग पर हादसों की खबर आती थी। क्योंकि 2014 से पहले देश में ब्रॉडगेज लाइन पर करीब 9 हजार मानव रहित रेलवे क्रासिंग थी। 2014 के बाद हमने अभियान चलाकर ब्रॉडगेज लाइन को मानव रहित क्रासिंग से पूरी तरह मुक्त कर दिया।

उन्होंने कहा कि पहले की सरकार के समय 3 वर्ष में रेलवे में 9,500 बायो टॉयलेट बने थे। हमारी सरकार ने पिछले 6 वर्ष में रेलवे के कोच में सवा 2 लाख से भी अधिक बायो टॉयलेट बनवाये।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •