ऑपरेशन गंगा की तेज हुई धार, अब तक 3 हजार से ज्यादा छात्रों को यूक्रेन से स्वदेश भेजा गया

रूस और यूक्रेन के बीच जंग लगातार आठवें दिन भी जारी है। इस दौरान बढ़ते खतरा को देखते हुए भारत अपने नागरिकों को तेजी के साथ वहां से निकालने में लगा हुआ है। खुद केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने जानकारी देते हुए बताया कि ऑपरेशन गंगा के तहत 3726  भारतीयों को आज रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट से भारत वापस लाया जाएगा। इन सभी को वापस लाने के लिए बुखारेस्ट से 8 उड़ानें, सुसेवा से 2, कोसिसे से 1,  बुडापेस्ट से 5  और रेजजो से 3 उड़ानें संचालित की जाएंगी।

अबतक 3 हजार से अधिक भारतीयों की हो चुकी घर वापसी

यूक्रेन हमले के बीच वहां रहने वाले भारतीयों को तेजी से स्वदेश लाने के लिए सरकार युध्दस्तर पर काम करने में लगी हुई है जिसका नतीजा ये हो रहा है कि अभी तक यूक्रेन से 3 हजार से अधिक छात्रों को भारत पहुंचा दिया गया है। जबकि यूक्रेन के खरकीव शहर से सभी भारतीयों को निकाला जा चुका है। यूक्रेन से आये छात्रों की माने तो विश्व में भारत ही ऐसा देश देश है जो अपने नागरिकों को तेजी के साथ यूक्रेन से निकालने में लगा हुआ है। इसके लिए मोदी सरकार ने अपने चार मंत्रियों को वहां भेज दिया है जिससे सहूलियत के साथ छात्रों को निकाला जा सके। इसके साथ छात्रों ने ये भी बताया कि आज उन्हे भारतीय होने का गर्व हो रहा है। क्योकि तिरंगे को देखकर रूस की फौज की संगीने झुकती ही नहीं होती बल्कि पूरे सम्मान के साथ वाहन को जाने का आदेश भी दिया जाता है जो नये भारत की तस्वीर बयां कर रही है।

बच्चों को अपने बीच देख अभिभावक भावुक

वहीं अपने बच्चों को देखकर पेरेंट्स भावुक को गए। इस दौरान वह कुछ नहीं बोल पाए और रोने लगे। उनकी आंखों में केवल और केवल खुशी के आंसू दिखाई दिए। सभी छात्रों के अभिभावक बेहद खुश दिखाई दिए। क्योंकि जो चिंता उन्हें खा रही थी, अब चिंता के उन पलों का आखिरकार अंत हो गया। अभिभावक अपने साथ फूलों के गुलदस्ते माला और मिठाई लेकर आए थे। बाहर निकलते ही एक दूसरे को मिठाई खिलाते हुए दिखाई दिए। इस दौरान छात्रों के अभिभावको ने भी मोदी सरकार की जमकर सराहना की और बोला कि जिस तरह से भारत सरकार उनके बच्चो को सकुशल भारत लाये है ऐसा कोई नही कर पाता।

ऑपरेशन गंगा अभी जारी है और सरकार का मानना है कि वो वहां फंसे हर भारतीय को जल्द से जल्द भारत ले आयेंगे इतना ही नहीं जो लोग यूक्रेन सीमा से सटे देश पहुंच गये है वहां पर भी भारत सरकार तेजी से उनके रहने खाने की व्यवस्था भी कर रही है। पर इसके बावजूद भी कुछ लोगये बोलते हुए दिखाई दे रहे है कि भारत सरकार कर क्या रही है।