पहले दिन रेलमंत्री ने दफ्तर का जायजा लेते हुए आखिर क्यों लगाया एक अधिकारी को गले?

ऊंचे पद पर बैठकर भी जो अपनों को नहीं भूलता; वो लोगों के दिलों में जगह बना लेता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया मोदी की टीम में रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने। मोदी मंत्रिमंडल के नए मंत्रियों की कार्यशैली और व्यावहारिता लोगों को काफी पसंद आ रही है। ऐसा ही एक वीडियो नए रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव का वायरल हो रहा है, जिसमें वे एक इंजीनियर को गले लगाते देखे गए। यह इंजीनियर उन्हीं के कॉलेज का जूनियर निकला।

जूनियर को गले लगाया

मंत्रालय में पदभार ग्रहण करके बाद रेलमंत्री अधिकारियों-कर्मचारियों से मुलाकात कर रहे थे। इसी बीच एक इंजीनियर ने उन्हें बताया कि वो उसी कॉलेज से पढ़ा है,फिर क्या था तुरंत रेलमंत्री ने कहा’आओ गले लगते हैं।’ वीडियो में दिख रहा है कि रेल मंत्री मजाक करते हुए इंजीनियर से कहते हैं, ‘हमारे कॉलेज में जूनियर, सीनियर को सर नहीं बॉस बोलते हैं, तो आप भी मुझे बॉस बोलेंगे?’ बता दें कि 51 वर्षीय अश्विनी वैष्णव 1994 बैच के ओडिशा कैडर के आईएएस अधिकारी रहे हैं। उन्होंने राजस्थान के जोधपुर मुगनीराम बांगुरी मेमोरियल इंजीनियर कॉलेज(MBM) से पढ़ाई की है। लेकिन इससे ये साफ होता है कि मोदी टीम में भी वही सदस्य है जो जमीन से जुड़े हैं उन्हें इस बात का बिलकुल अहंकार नही है कि वो आज बहुत बड़े पद में है। जैसे पहले देखा जाता था। यही वजह है कि आज विभागो में एक टीम की तरह काम हो रहा है और देश को इसका फायदा पहुंच रहा है।

ऑफिस में अब दो शिफ्ट में काम करेंगे अधिकारी

वैसे ऐसा नहीं है कि सिर्फ नये मंत्री दफ्तरो में खानापूर्ती करने के लिये और फोटो खिंचवाने के लिये मिलते हुए दिखाई दे रहे हैं। विभाग की जिम्मेदारी लेते ही तेजी के साथ काम करने की तैयारी में भी जुट गये हैं। इसी क्रम मे में अब रेल मंत्री ने रेल मंत्रालय के अधिकारियों और कर्मचारियों को दो शिफ्ट में काम करने का निर्देश दिया। अश्विनी वैष्णव की तरफ से जारी एक आदेश में कहा गया है कि पहली शिफ्ट सुबह 7 बजे शुरू होगी और शाम 4 बजे खत्म होगी जबकि दूसरी शिफ्ट दोपहर 3 बजे शुरू होगी और मध्यरात्रि में 12 बजे समाप्त होगी। रेल मंत्रालय के एडीजी पीआर डीजे नारायण के मुताबिक ये आदेश सिर्फ एमआर सेल मंत्री कार्यालय के लिए जारी किया गया है न कि प्राइवेट या रेलवे स्टाफ के लिए। उन्होंने कहा कि रेल मंत्री ने निर्देश दिया है कि उनके ऑफिस से जुड़े सभी दफ्तर और कर्मचारी तत्काल प्रभाव से दो शिफ्ट यानी 7:00 बजे से 16:00 बजे और 15:00 बजे से 24:00 बजे तक काम करेंगे। इसके पीछे की वजह पर नजर डालें तो ये इसलिये किया गया है क्योंकि इससे रेलवे के हर विंग पर नजर रखी जा सके।

तेजी से रेलवे अपने मुसाफिरों को फायदा पहुंचा सके। इसके लिये नये मंत्री जी ने कमर कस ली है और इसका नतीजा क्या निकलेगा ये तो आने वाले वक्त में पता चलेगा लेकिन ये तय है कि रेलवे अब और तेजी से काम करने के लिये तैयार है।