ओम बिड़ला – समाजसेवा, मेहनत, और संघर्ष की सीढ़ियों से लोकसभा स्पीकर तक का सफ़र

OM_Birla

सत्रहवीं लोकसभा में स्पीकर पद के लिए लग रहे कयासों पर पूर्णविराम लग गया है| NDA ने कोटा सांसद ओम बिड़ला का नाम लोकसभा के स्पीकर पद के लिए पेश किया है| लोकसभा में NDA को प्रचंड बहुमत होने के कारण अब ओम बिड़ला का स्पीकर बनना तय है|

ओम बिड़ला – 3 बार विधायक, सदन के सितारे, 2 बार सांसद और अब लोकसभा स्पीकर

ओम बिड़ला भारतीय जनता पार्टी के राजस्थान कैडर के कर्मठ कार्यकर्ता रहे हैं| भारतीय जनता युवा मोर्चा से लेकर, विधायक और सांसद तक का सफ़र उन्होंने अपनी लगन, काबिलियत और समाजसेवा के जज्बे के दम पर तय किया है|

ओम बिड़ला सत्रहवीं लोकसभा में राजस्थान के कोटा से चुनकर आये हैं| लगातार दूसरी बार उन्होंने कोटा संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार रामनारायण मीणा को 2 लाख 79 हजार 677 वोटों से हराकर जीत दर्ज की|

इस से पहले ओम बिड़ला कोटा दक्षिण सीट से 3 बार विधायक रह चुके हैं| 2003 की वसुंधरा राजे सरकार में उन्हें संसदीय सचिव की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी| राजस्थान की तेरहवीं विधानसभा के कार्यकाल में उन्होंने अपनी सक्रिय भूमिका निभाई और 500 सवाल पूछे| उनके सक्रिय योगदान के लिए उन्हें पुरष्कृत भी किया गया और “सदन के सितारे” में उनका नाम 6 बार दर्ज हुआ|

समर्पित समाजसेवी और सांगठनिक कौशल

युवाकाल से ही ओम बिड़ला समाजसेवा में सक्रिय रहे हैं| 2001 में गुजरात में आये भीषण भूकंप में उन्होंने राहत कार्य के लिए डॉक्टरों सहित 100 लोगों की टीम के साथ असीम योगदान दिया| बारां जिले में सहरिया जनजाति के बच्चों में कुपोषण दूर करने के लिए उन्होंने मिशन चलाया। कोटा में IIT की स्थापना के लिए भी उन्होंने आन्दोलन चलाया| बूंदी के लोगों को चम्बल नदी का पानी मिले, इसके लिए भी ओम बिड़ला ने मुहिम चलाई|

समाजसेवा के अलावा ओम बिड़ला अपने सांगठनिक कौशल के लिए भी जाने जाते हैं| छात्र राजनीति से अपने राजनितिक सफ़र की शुरुआत करने वाले ओम बिड़ला की युवाओं में अच्छी पकड़ है| उनका बूथ मैनेजमेंट, कार्यकर्ताओं पर उनकी पकड़ और जनता में उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2018 के विधानसभा चुनाव में राजस्थान में सत्ता विरोधी लहर के बावजूद कोटा दक्षिण सीट पर बीजेपी जीत हासिल करने में कामयाब रही थी।

पार्टी को उनके योगदान, उनकी काबिलियत और संगठन में उनके महत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कई भारी-भरकम नामों के लोकसभा स्पीकर बनने की भीड़ में रहने के बाद भी ओम बिड़ला के नाम को पार्टी ने तरजीह दी|

कल बुधवार को संसद में लोकसभा स्पीकर पद के लिए मतदान होगा जिसमे ओम बिड़ला का जीतना तय ही है| IndiaFirst ओम बिड़ला को लोकसभा का स्पीकर बनने के लिए अग्रिम शुभकामनाएं देता है| हमें विश्वास है कि इनके नेतृत्व में सत्रहवीं लोकसभा उन ऊँचाइयों को छुएगी जिसकी देश को जरुरत है|