NRI भारत आकर कर रहे मोदी का प्रचार

campaigning-for-modi

लोकसभा चुनाव का जोश अब देश की सड़को पर देखा जा रहा है। हर तरफ पार्टिया प्रचार करने मे जुटी हुई है। शहर हो या गाँव, हर जगह रैलियों की जगमग देखी जा रही है। लेकिन ज्यादातर ये रैलीयाँ पार्टियों की तरफ से की जाती है या रखी जाती है| बहुत कम देखा जाता है कि जनता किसी के प्रचार मे आगे निकलकर आती हो लेकिन मोदी की दीवानगी इस कदर है कि देश की जनता ही नही विदेश से भी लोग भारत आकर उनका प्रचार कर रहे है।

मोदी भारत के विकास के लिये कितने जरूरी है ये बात समझाने के लिये यू तो बड़े बड़े विज्ञापन किये जा रहे है लेकिन इस क्रम मे अब एनआरआई लोगों का एक ग्रुप यूपी और देश में घूम घूम कर मोदी के लिए वोट मांग रहा है। इनसभी लोगों का मानना है कि नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री जरूर बनना चाहिए।

150 NRI मोदी के प्रचार के लिये भारत आये

ये लोग देश के शहरो और गाँव मे जाकर ये समझाने मे लगे है कि मोदी के आने के बाद जिस तरह से देश की छवि विश्व मे बदली है, आने वाले दिनो मे देश विश्व मे और चमकेगा। कानपुर मे मोदी का प्रचार मे उतरी अमेरिका से आई मंजरी गंगवार ने मोदी के लिये प्रचार तो किया ही ये भी बताया कि देश मे ही नही बल्कि विदेश मे भी मोदी लहर कायम है| साथ ही उन्होने बताया कि वो अमेरिका जाने से पहले कानपुर मे ही रहती थी। लेकिन जिस तरह का विकास पिछले पांच सालो मे कानपुर मे हुआ है, वो तारीफ के काबिल है। आज कानपुर की गंगा पूरी तरह से साफ है और कानपुर के सारे नाले भी आज गंगा मे नही गिर रहे है। ये सब मोदी के कारण ही हुआ है। जो एक बड़ी उपलब्धि है।

NRI_campaigning-for-modi

एनआरआई के बीच मोदी किस तरह से पंसद किया जाते है इसका एक उदाहरण कर्नाटक मे भी देखा गया जब मोदी को चुनाव जिताने के लिये एक युवा ऑस्ट्रेलिया से नौकरी छोड़ कर भारत आ गया। मंगलोरू के रहने वाले इस युवा ने कहा कि देश मे मोदी एक ऐसे नेता है जो पूरी ईमानदारी से भारत को चमकाने मे लगे हुए है। जिसके चलते आज विश्व के दूसरे समुदाय या देश के लोग हम भारतीयो को एक अलग नजर से देखने लगे है। जिसपर हमे गर्व होता है। ऐसे मे मोदी को वोट देने न आना देश के साथ गद्दारी होगी। इसीलिये मै अवकाश न मिलने पर नौकरी को छोड़ कर भारत वापस आया हूँ।

ऐसा पहली बार नही हो रहा है। इससे पहले भी। वो इस लिये क्योकि मोदी से देश की जनता को जितना दुलार और प्यार मिला है वो पहले के नेताओं से कहाँ मिला है।