अब ट्रेन से ही नही हवाई जहाज से भी जायेगा किसान का माल

किसान रेल की अपार सफलता को देखते हुए अब देश में किसानों की आय को बढ़ाने के लिये 100 किसान ट्रेनो की सुरूआत पीएम मोदी ने की है। ऑकड़ो पर नजर डाले तो इस किसान ट्रेन से करीब 30 फीसदी आय में किसानों की बढ़त देखी जा रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए अब सरकार कृषि उड़ान योजना की घोषणा की तैयारी में है जिसमें हवाई जहाज से किसान अपना सामान एक शहर से दूसरे शहर भेज सकेंगे। 

क्या है कृषि उड़ान योजना?

इस योजना के तहत केंद्र सरकार कृषि उपजों को एक जगह से दूसरे जगह ले जाने में किसानों की मदद करती है। जिस तरह किसान रेल योजना शुरू हो चुकी है उसी तरह उत्तर पूर्व के कुछ राज्यों में कृषि उड़ान सेवा शुरू हुई है लेकिन अभी यह रफ्तार में नहीं है। अब केंद्र सरकार नये साल से इस योजना को रफ्तार देने की तैयारी करने जा रही है। केंद्र सरकार ने साल 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने का फैसला लिया है। आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार की ओर से शुरू किए गए अलग-अलग कदमों में किसान रेल और कृषि उड़ान योजना भी शामिल हैं। कृषि उड़ान योजना के तहत किसान अपनी फसलों को देश के किसी कोने में ले जाकर बेच सकते हैं और अपनी उपजों पर अच्छी कमाई कर सकते हैं। सरकार ने किसानों के कल्याण के लिए जिस 16 सूत्रीय कार्ययोजना का ऐलान किया है, कृषि उड़ान योजना भी एक है। इस योजना से किसान का वक्त तो बचेगा ही साथ में ही दाम भी अच्छा मिलेगा।

किसानों और एयरलाइन कंपनियों को सब्सिडी

कृषि उड़ान योजना के अंतर्गत कम से कम आधी सीटें किसानों को रियायती दरों पर दी जाती है। किसानों और एयरलाइन कंपनियों को इसके लिए सब्सिडी दी जाती है। सब्सिडी की राशि को केंद्र और संबंधित राज्य सरकार द्वारा साझा किया जाता है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय और उड्डयन मंत्रालय के सहयोग से शुरू की गई यह सब्सिडी आधारित सेवाएं सभी अंतरराज्यीय और अंतरराष्ट्रीय रूट्स पर भी लागू होती है। इस योजना में किसानों के प्रोडक्ट जैसे कि दूध, मछली, सब्जी, फल, मांस आदि खराब होने वाली चीजों को हवाई जहाज से बाजार तक पहुंचाया जाता है। विमान सेवा मिलने से किसानों को अपनी उपज बेचने का ज्यादा वक्त मिल जाता है जिससे उनकी कमाई बढ़ती है। अभी मंडियों में उपज खराब होने के डर से किसान औने-पौने दामों पर बेचकर भाग जाते हैं। अगर रेल या हवाई सुविधा से उन्हें जल्द बाजार तक पहुंच मिले तो उन्हें बेचने का वक्त भी ज्यादा मिलेगा और उपज तरो-ताजा होने से कमाई भी अच्छी होगी। सरकार की इस पहल के बाद किसान और ग्राहक दोनो को फायदा होने वाला है क्योकि एक तो सामान जाता मिलेगा तो दूसरी तरफ सीदे किसान के बेचने के चलते बिचौलिये न होने के चलते सीधे पैसा किसानों के पास जायेगा जिससे देस के किसान की आय बढ़ेगी और ये तो आप भी जानते है कि मोदी जी अगर कोई योजना बनाते है तो उसे सफल करके ही रहते है। ऐसे में इस योजना के सफल होने के 100 फीसदी चांस है।

इस योजना में जिस किसान को शामिल होना है, उसे ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद ही किसान को इस योजना का लाभ मिल सकेगा। सरकार इस योजना में एयरलाइन कंपनियों के साथ किसानों को भी सब्सिडी देकर प्रोत्साहित करेगी। इसके साथ ही किसानों की फसलों को समय से मंडी पंहुचा कर उन्हें उचित दाम दिलाया जा सकेगा। इस योजना का मकसद किसानों की फसलों को बचाने के साथ ही विदेश तक किसानों की पैदावार को पहुंचाना है ताकि किसान अच्छी कमाई कर सकें।