जम्मू कश्मीर से कन्याकुमारी तक रेल पहुंचे में अब कुछ ही वर्ष

सच बात है आज विकास ना अटकटा है ना भटकता है तभी तो देश को आगे ले जाने वाले कार्य जल्द से जल्द तय समय पर पूरे होते हुए दिखाई देते है। इसी क्रम में अब रेलवे ने एक नया मुकाम छुआ है। जम्मू कश्मीर के रामबन में बनिहाल के निकट बानकोट में रविवार को कड़ी मशक्कत के बाद एक और सुरंग को जोड़ने में सफलता हासिल कर ली है।

जम्मू-कश्मीर में देश की सबसे लंबी सुरंग की खुदाई का काम पूरा

भारतीय रेलवे ने कटरा-बनिहाल रेलवे लिंक के बनिहाल और खारी सेक्टर के बीच एक अन्य चुनौती को पार कर लिया है। उन्होंने बताया कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक रेल यात्रा अगले दो वर्षों में शुरू होने की संभावना है और इस समयसीमा को हासिल करने के लिए रामबन में पूरे जोरों से काम कर चल रहा है। जोजिला टनल को पूरा करने का वास्तविक समय 2026 है। मगर मोदी सरकार ने इसे तीन साल पहले ही पूरा करने को कहा है। 14.4 किलोमीटर लंबी जोजिला सुरंग देश की सबसे बड़ी बुनियादी इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं में से एक है। यह जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में सबसे बड़ी टनल है। जोजिला टनल के शुरू होने के बाद श्रीनगर से द्रास, करगिल और लेह के बीच आने-जाने के लिए रास्ता सालभर खुला रहेगा। फिलहाल बर्फबारी के कारण यह हिस्सा श्रीनगर से साल में छह महीने कटा रहता है। इस टनल का काम पूरा होने के बाद लद्दाख से बालटाल का सफर 15 मिनट में पूरा होगा। फिलहाल यह सफर साढ़े तीन घंटे में पूरी होती है।

और भी कई जगहों पर चल रहा टनल निर्माण

जम्मू-कश्मीर में कई जगहों पर टनल का निर्माण हो रहा है। लंबाई के हिसाब से देखें तो इस केंद्रशासित प्रदेश में 32 किलोमीटर के हिस्से में टनल बन रहा है। वहीं, 20 किलोमीटर का टनल लद्दाख में बन रहा है। यानी कुल 52 किलोमीटर टनल सड़क आने वाले समय में बनकर तैयार हो जाएगी। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर को अलग-अलग हिस्सों से जोड़ने के लिए सड़कों का निर्माण किया जा रहा है। जिससे प्रदेश के विकास में तो आगे बढ़ेगा साथ ही कश्मीर 12 महीने भारत के दूसरे राज्यों से जुड़ा रहेगा जो आने वाले दिनो में कश्मीर की खुशियाली में काफी अहम रोल होगा।

कटरा और बनिहाल के बीच 110 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन में कश्मीर रेल परियोजना पर काम चल रहा है और इसके अगले दो वर्षों में पूरा होने की संभावना है। यह परियोजना कश्मीर और देश के बाकी हिस्सों के बीच संपर्क के लिए 272 किलोमीटर लंबी उधमपुर-श्रीनगर-बारामुला रेलवे लाइन का हिस्सा है जिसके लिए मोदी सरकार लगातार आगे बढ़ा रही है।