अब योजनाओं के लिये रुकावट के लिये खेद नही है

सरकारे बहुत देखी है लेकिन जिस तरह से मोदी सरकार काम करती है उसका कोई सानी नही है। वरना पहले सरकार घोषणा करती थी फिर उसे कागजी रूप देने मे और योजना को जमीन मे उतारने और जनता तक पहुंचाने में ही साल दर साल लग जाते थे। लेकिन अब ऐसा नही है और इसका जीता जागता उदाहरण पीएम किसान सम्मान योजना है।

एक फरवरी को जब मोदी सरकार के कैबिनेट मंत्री ने लोकसभा मे ऐलान किया कि मोदी सरकार किसानो को प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के तहत 6 हजार रूपये प्रति साल देगी, तो किसानों के चहरे मे खुशी तो दिखी लेकिन वो इस सोच मे भी पड़ गये कि ये योजना भी 2 तीन साल मे लागू ही हो जायेगी। लेकिन जब 20 मार्च को गोरखपुर से खुद पीएम ने इस योजना को लॉन्च ही नही बल्कि 2 करोड किसानो के खातो मे 2 हजार रूपये डाले तो सभी चक्कर मे पड गये और गली गली शहर शहर सिर्फ यही चर्चा होती थी कि पीएम जो कहते है उसे तुरंत करते है। फिर वो कोई भी योजना क्यों न हो। इतना ही नही किसान सम्मान निधि योजना के तहत अभी तक 2.6 करोड किसान के खातो मे 5215 करोड रूपये डाले जा चुके है।

modi jabalpur

सबसे बड़ी कामयाबी तो इस योजना की ये है कि सभी किसानो को रकम उनके खाते मे दिया गया है। यानी की जो बिचौलिये पहले योजनाओ को आम लोगो तक पहुंचने से पहले ही रोड़े अटकाते थे, आज वो गायब हो गये है। इसीलिये योजनाये जमीनी हकीकत भी बन रही है और जिनके लिये बन रही है उनको भी इससे सीधा फायदा भी वक्त रहते पहुंच रहा है पहुंच रहा है। ये बदलाव देश मे इसलिए आया है क्योकि देश मे आम लोगो के लिए सोचने वाली सरकार है। तभी तो लोग आज ये कहते हुए दिखाई दे रहे है कि मोदी है तो मुमकिन है.