नो प्रॉब्लम, मोदी जी हैं ना

पीएम यानी प्रधानमंत्री मतलब देश का सर्वेसर्वा, मोदी जी के पीएम बनने से पहले हम ऐसा ही सोचते थे जिसे हम खुद मतदान करके चुनते थे। वो ही हमें किसी राजा से कम नहीं लगता था लेकिन मोदी जी के पीएम बनने के बात सबकुछ बदला हुआ नजर आने लगा है। सच में वो देश के प्रधान नही बल्कि प्रधान सेवक है तभी तो आज पीएम को एक ट्वीट करने पर ट्रेन की स्पीड बढ़ जाती है देश की बेटी को इंटरनेट की सेवा उपलब्ध होती है पीएम को लिखे हर खत का जवाब भी मिलता है। जिससे यही लगता है कि अब देश के प्रधान और जनता के बीच कोई दीवार नही है।

पीएम को किये हर ट्वीट पर तुरंत होता काम

देशवासियों को अगर कोई दिक्कत होती है तो सीधे उसके हल के लिए पीएम मोदी जी से हल निकालने को गुहार लगाते है और देश के प्रधान तुरंत उसका समाधान भी निकालते है जैसा एक ट्वीट मऊ के एक युवक ने पीएम मोदी को किया सर, मेरी बहन का बीटीसी का पेपर है, लेकिन जिस ट्रेन में उसका रिजर्वेशन है, वो ढाई घंटे देरी से चल रही है। ऐसे में उसका पेपर छूट सकता है, यह भावुक भरा पोस्ट जैसे ही किया गया बस फिर क्या था, थोड़ी देर में ट्रेन की गति बढ़ गई और जल्द वाराणसी पहुंच गई। जिससे छात्रा समय से कालेज पहुंचकर पेपर दे सकी। इसी तरह महाराष्ट्र का भी किस्सा है जब पीएम मोदी को एक लड़की ने लॉकडाउन के वक्त पढ़ाई के लिये इंटरनेट पहुंचाने की मांग अपने गांव में की थी तो झट से उसके लिये मोदी प्रशासन ने नेट की सुविधा उपलब्ध करवाई। लॉकडाउन का एक किस्सा और है जब बिहार में एक परिवार के लोग कई दिन से भूखे थे ऐसे में पीएमओ को अपनी समस्या का निदान निकालने के लिये बोला जिसके बाद इन लोगो के पास खाना पहुंचाया गया। ऐसे तमाम मामले है जब पीएम मोदी से सीधे देस के नागरिको ने बात रखी और उनके समस्या का हल तुरंत हो गया। जो ये बताते है कि सच में हमारे प्रधान हमारे प्रधान सेवक है।

मोदी जी खुद देते हर खत का जवाब

इसी तरह पीएम मोदी ऐसे पीएम है जो जनता से सीधे जुड़े हुए है तभी वो जनता द्वारा लिखी गई हर चिट्टी का जवाब भी देते है। फिर वो युवक ने लिखा हो या फिर किसी रिक्शेवाले ने सब को जवाब मिलता है ऐसा ही एक खत आजकल खूब चर्चा में जो पंजाब के एक छात्र ने पीएम को उनकी लिखी कितान ‘एग्जाम वॉरियर्स’ को पढ़ने के बाद लिखा छात्र ने लिखा कि ये किताब पढ़ने से सच में परीक्षा को लेकर मेरा सारा तनाव खत्म हो गया है। जिसके बाद पीएम मोदी ने यह जानकर अच्छा लगा कि इस पुस्तक से आपको अपने व्यवहार में बदलाव लाने में मदद मिली और अब आप परीक्षाओं के दौरान दबाव महसूस नहीं करते हैं बल्कि त्योहार के तौर पर इन्हें मनाने के लिये प्रेरित होते हैं। मोदी जी का जवाब पाकर छात्र की खुसी का ठिकाना न रहा। इसी तरह एक बिहार के एक रिक्शा चालक ने जब पीएम मोदी को प्रधानमंत्री बनने पर धन्यवाद दिया तो पीएम मोदी ने उसको खत लिखकर आभार जताया वही कई बार खत में लोगो ने अपनी समस्या के बार में बी लिखा जिसका हल पीएम ने तुरंत निकालकर उनका दुख दूर किया।

शायद मोदी जी देश की जनता को अपना मानते है और अपने आपको देशवासियों में ही खोजते है क्योकि वो खुद बोल चुके है कि वो आपके बीच से आये है और मोदी जी के द्वारा किये गये काम भी ये प्रमाण देते है कि सच में वो हम सबके बीच मे से ही एक है।