भ्रष्टाचार कितना भी ताकतवार हो, लोग जानते हैं हमारी सरकार किसी को नहीं छोड़ती: मोदी

देश की जनता को एक बार फिर से पीएम मोदी ने पैगाम दे दिया है कि सत्ता संभालने के वक्त भ्रष्टाचार को लेकर सरकार जितनी सख्त थी आज भी उतनी ही सख्त है। सरकार के कामकाज में इसकी झलक भी दिखाई देती है। तभी तो सरकार पर घोटालो के आरोप जरूर लगाये गये लेकिन उन्हे साबित कोई नहीं कर सका। वैसे पीएम हर साल की तरह इस साल भी सीबीआई और सीवीसी के अधिकारियों से संबोधन कर रहे थे लेकिन उनका मैसेज उन सभी को था जो ये सोचते है कि देश में घोटाला करेगे और बच जायेगे। 

आज भ्रष्टाचार करने वालो को सरकार छोड़ती नहीं

इस बाबत पीएम मोदी ने बोला भ्रष्टाचार-करप्शन, छोटा हो या बड़ा, वो किसी ना किसी का हक छीनता है  ये देश के सामान्य नागरिक को उसके अधिकारों से वंचित करता है, राष्ट्र की प्रगति में बाधक होता है और एक राष्ट्र के रूप में हमारी सामूहिक शक्ति को भी प्रभावित करता है। आत्मनिर्भर भारत की और इशारा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, आज देश को ये भी विश्वास हुआ है कि देश को धोखा देने वाले, गरीब को लूटने वाले, कितने भी ताकतवर क्यों ना हो, देश और दुनिया में कहीं भी हों, अब उन पर रहम नहीं किया जाता, सरकार उनको छोड़ती नहीं है। आने वाले 25 वर्ष, यानि इस अमृतकाल में आत्मनिर्भर भारत के विराट संकल्पों की सिद्धि की तरफ देश बढ़ रहा है। आज हम गुड गवर्नेंस- प्रो पीपल, प्रोएक्टिव गवर्नेंस को सशक्त करने में जुटे हैं जिससे देश तेजी के साथ विकास के रास्ते पर चले और नये नये आयाम छूए।

भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा अब नहीं

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमने देशवासियों के जीवन से सरकार के दखल को कम करने को एक मिशन के रूप में लिया हमने सरकारी प्रक्रियाओं को सरल बनाने के लिए निरंतर प्रयास किए। मैक्सिमम गवर्नमेंट कंट्रोल के बजाय मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस पर फोकस किया। प्रधानमंत्री ने कहा, ”न्यू इंडिया अब ये भी मानने को तैयार नहीं कि भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा है। उसे सिस्टम पारदर्शी चाहिए, सरकारी तंत्र सरल चाहिए  जिससे तेजी से काम हो सके और सरकार आज विभागो में ऐसा करने में भी लगी है। आज 21वीं सदी का भारत, आधुनिक सोच के साथ ही टेक्नोलॉजी को मानवता के हित में इस्तेमाल करने पर बल देता है। नया भारत नई नई खोज करने में लगा है तभी तो आज देश का हर व्यक्ति सरकार पर भरोसा करता है। इस भरोसे ने भी भ्रष्टाचार के अनेकों रास्तों को बंद किया है जो देश को आगे ले जाने में मदद करेगा।

वैसे पीएम मोदी अफसरो की कोताही और भ्रष्टाचार ना कर सके इसके लिये खुद ही समीक्षा करते है। तभी कई अफसरो को वो रिटायर भी करके ये साफ संदेश बी दे चुके है कि सरकार भ्रष्टाचार को बिलकुल नही बर्दाशत करेगी।