निर्मला सीतारमण – पहले प्रथम महिला रक्षा मंत्री और अब प्रथम महिला वित्त मंत्री

Nirmala_Sitharaman

कल 30 मई को निर्मला सीतारमण ने कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ ली और आज विभागों के बंटवारे के बाद उन्हें देश की प्रथम पूर्णकालिक महिला वित् मंत्री होने का गौरव प्राप्त हुआ है| इस से पहले वो देश की प्रथम महिला रक्षा मंत्री (पूर्णकालिक) भी रह चुकी हैं| दोनों पदों पर उनसे पहले महिला मंत्री के रूप में इंदिरा गाँधी रही थी, लेकिन उन्होंने प्रधानमंत्री होने के साथ साथ अपने पास इन मंत्रालयों का अतिरिक्त प्रभार रखा था|

तेजी से चढ़ी राजनीति की सीढियाँ

2008 में बीजेपी ज्वाइन करने के बाद निर्मला सीतारमण अपनी काबिलियत और अनुभव के दम पर राजनीति की सीढियाँ बहुत तेजी से चढ़ी| दो साल के अन्दर पार्टी प्रवक्ता बनी निर्मला अपने ज्ञान, काबिलियत, देश-विदेश के मुद्दों पर अपनी पकड़, तथा वाक्पटुता से जल्दी ही पार्टी के चर्चित चेहरों में शुमार होने लगी| 2014 में बनी नरेन्द्र मोदी की सरकार में उन्हें पहले वाणिज्य और उद्योग (स्वतंत्र प्रभार) तथा वित्त व कारपोरेट मामलों की राज्य मंत्री का दायित्व मिला| बाद में उन्हें 3 सितंबर 2017 को रक्षा मंत्री का प्रभार सौंपा गया|

अर्थशास्त्र से पुराना नाता

तमिलनाडु के मदुरई में जन्मी निर्मला सीतारमण ने अर्थशास्त्र में स्नातक किया और फिर जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय से मास्टर्स करने के बाद, इंडो-यूरोपियन टेक्सटाइल ट्रेड में पीएचडी की| निर्मला सीतारमण ने एक सेल्सपर्सन के रूप में अपने करियर की शुरुआत की और बाद में उन्होंने यूके के एग्रीकल्चरल इंजिनियर्स एसोसिएशन के इकोनॉमिस्ट के सहायक के रूप में भी काम किया| बाद में उन्होंने प्राइस वाटरहाउस और बीबीसी वर्ल्ड सर्विस जैसे प्रतिष्ठित बहुराष्ट्रीय कंपनियों में सीनियर मेनेजर की तरह भी कार्य किया|

भारत अभी एक तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था में गिना जाता है| एक उभरती हुई अर्थव्यवस्था वाले देश में निर्मला के पास ढेरों चुनौतियाँ हैं, हम आशा करते हैं की जिस प्रकार से उन्होंने रक्षा मंत्री का कार्यभार बखूबी निभाया, उसी प्रकार से वित् मंत्रालय को भी बखूबी सँभालते हुए वो भारतीय अर्थव्यवस्था को नयी ऊँचाइयों तक ले जाएँगी|