नया भारत AC कमरे में बैठकर नहीं जमीन पर उतर कर काम करता है, यूक्रेन से सटे देशों में सरकार ने चार मंत्री किये नियुक्त

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को देश वापस लाने के लिए मोदी सरकार लगातार काम करने में जुटी हुई है तो अब खुद पीएम मोदी ने अपने हाथों में कमान संभाल ली है। इसके चलते पीएम मोदी ने दो उच्च स्तरीय बैठक की है जिसके बाद यूक्रेन से सटे देशों में मोदी सरकार ने अपने कई मंत्री नियुक्त किये हैं।

यूक्रेन से सटे चार देशों में भेजे जायेंगे चार मंत्री

पीएम मोदी  ने यूक्रेन मसले पर उच्च स्तरीय बैठक की जिसके बाद फैसला किया गया कि  केंद्र सरकार के मंत्री यूक्रेन  के पड़ोसी मुल्क रोमानिया, हंगरी, पोलैंड जाएंगे, जहां से भारतीय छात्रों को निकाला जा रहा है। ज‍िन मंत्रियों को वहां भेजा जा रहा है, उसमें कानून मंत्री किरण रिजिजू, हरदीप पुरी, नागरिक उड्डयन मंत्री ज्‍योतिरा‍द‍ित्‍य स‍िंध‍िया और जनरल वीके सिंह का नाम शामिल है। ये मंत्री भारत के विशेष दूत के रूप में जा रहे हैं। इनको वहां भेजने का फैसला इसल‍िए ल‍िया गया है, ताकि वहां भारतीय नागर‍िकों को हो रही दिक्कतों को ऑन स्पॉट दूर किया जा सके। इस बाबात ज्योतिरादित्य सिंधिया को रोमानिया और मोल्दोवा की तो हरदीप सूरी को हंगरी, किरण रिजिजू को स्लोवाकिया तो वीके सिंह को पोलेंड भेजा गया है। इसके साथ वहां कि स्थिति की भी समिक्षा की गई और सभी तरह की सुविधा मोहइया करवाने पर ध्यान देने को बोला गया।

 

अब तक हो चुकी 1100 से ज्यादा भारतीयों की सुरक्षित वतन वापसी

पीएम मोदी ने यूक्रेन में जारी संघर्ष की वजह से जान व माल को हुए नुकसान पर गहरी पीड़ा व्यक्त की। उन्होंने भारतीय नागरिकों को जल्द और सुरक्षित निकालने के लिए यूक्रेन के अधिकारियों से उपयुक्त कदम उठाने का भी अनुरोध किया। बता दें कि यूक्रेन की राजधानी कीव से अब तक 1100 से ज्यादा भारतीयों की सुरक्षित वतन वापसी हो चुकी है। हालांकि अभी-भी बड़ी संख्या में नागरिक वहां फंसे हुए हैं जिन्हे वतन लाने की तैयारी की जा रही है। खुद पीएम मोदी ने देश को भरोसा दिलाया और बोला है कि यूक्रेन से एक एक भारतीय को हिफाजत के साथ निकालने तक ऑपरेशन गंगा चलता रहेगा। उधर यूक्रेन से जो लोग भारत पहुंचे है उन्होने ने भी माना है कि भारत सरकार की कूटनीति के चलते ही आज वो स्वदेश लौट पाये है सरकार की जितनी भी तारीफ की जाये वो कम होगी। उधर सोसल मीडिया में भी कई वीडियो वायरल हो रहे है जिसमें ये साफ पता चलता है कि भारत के तिरंगे का सम्मान पिछले सात सालों में कितना बढ़ा है।

तभी तो रूसी सैनिक हो या फिर यूक्रेन के जवान या फिर दूसरे सटे देश हर कोई तिरंगे को देखकर सम्मान के साथ भारतीयों को देख रहा है।