सात साल से जनता और मोदी का साथ बना रहा नया भारत

कल मोदी सरकार के सत्ता में आये 7 साल पूरे होने वाले है यानी देशवासियों के साथ पीएम मोदी का सात साल का साथ हो चुका होगा। अगर अतीत में झांक कर देखे तो पिछले 7 सालो में भारत की छवि बहुत बदली है। आज भारत दुनिया में एक मजबूत राष्ट्र के रूप में उभरा है तो दूसरी तरफ देश आज हर तरह की मुसीबत से निपटने में आत्मनिर्भर हुआ है।

अच्छी दिन से आत्मनिर्भर भारत तक का सफर

साल 2014 में मोदी सरकार ने आने के बाद जिन अच्छे दिनों का वायदा जनता से किया था उसे आज जनता महसूस कर रही है लेकिन इसके साथ साथ पिछले साल मोदी जी ने जो आत्मनिर्भर भारत का सपना देका आज भारत उसको पूरा करने में लगा है। आलम ये है कि देश में आज उन वस्तुओं का उत्पादन हो रहा है जिसके बारे में देश ने कभी सोचा भी नहीं था। कोरोना काल में भी आत्मनिर्भर भारत बनने का सफर जारी है। हां ये जरूर है कि कोरोना के चलते रुकावटे बहुत आ रही है। लेकिन देशवासी इन रुकावट को दूर करते हुए आगे बढ़ रहे है वो भी सरकार की मदद के जरिये आज देश में लोगो के पास अपने बैंक काते है तो खुद के शौचालय भी है। देश की महिलाए अब गैस में खाना बनाती है मतलब धुए से वो पूरी तरह से मुक्त हुई है तो लाखो लोगों का अपने मकान का सपना भी पूरा हुआ है जिससे लोगो में आत्मनिर्भरता भी बढ़ी है। इन सब कामो की सबसे बड़ी बात ये है कि ये सब काम जनता और सरकार ने मिलकर किया है जिसका असर है कि भारत बदला हुआ दिख रहा है।

देश की सुरक्षा पर विशेष ध्यान

वैसे पीएम मोदी देश की सुरक्षा को लेकर कई बार बोल चुके है कि वो कोई समझौता नही करने वाले है। सेना को मजबूत करने के लिए जितनी जरूरत पड़ेगी वो जरूर करेंगे। राफेल एस 400 मिसाइल या फिर इजरायल से ड्रोन को लेकर हुआ करारा इसकी तस्वीर दिखाती है। लेकिन सेना मजबूत हो इसके लिये सेना को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सेना से जुड़े उत्पादन को बढ़ाना ये इस सरकार की सबसे बड़ी कबिलियत रही है। आज देश में सेना के लिये बहुत कुछ खास सामान बन रहा है। मसलन सेना की वर्दी को लेकर हो या फिर सेना को मजबूत बनाने वाले अस्त्र को लेकर हो सभी का निर्माण आज भारत में तेजी के साथ हो रहा है जिससे देश के लोगो को रोजगार तो मिल रहा है बल्कि सेना खुद आत्मनिर्भर भी हो रही है। इसके साथ साथ सीमा से सटे इलाको में भी ढ़ाचागत काम तेजी से किये जा रहे है। ये मानकर चलिये कि सरकार ने जितनी सड़के बीते मोदी काल में सीमा पर तैयार की है उनती आजादी के बाद 2014 तक नही बनी थी जिसका परिणाम ये हुआ कि चीन को आखिरकार पीछे हटना ही पड़ा दूसरी ओर पाकिस्तान आज ऐसे स्थिति में पहुंच गया है कि उसके बारे में भारत बात तक नही करता सिर्फ आर्मी स्ट्राइक के जरिये उसे जवाब देता है।

आर्थिक सेक्टर में लगातार जारी रही उछाल

साल 2014 में जिस वक्त मोदी सरकार ने देश की कमान संभाली थी उस वक्त देश के आर्थिक हालात काफी खराब थे विदेशी निवेश हो या फिर मुद्रा भंडार सभी तेजी से घट रहा था। रोजगार के हालात कुछ खास नही थे। लेकिन मोदी सरकार के सत्ता संभालने ही ऐसी रणनीति बनाई जिससे एक ओर लोगो की जेब में पैसा बचने लगा तो दूसरी तरफ देश की माली हालात भी सुधरने लगी आज भारत में करीब 82 मिलियन डॉलर का आज की तारीख में विदेशी निवेश है जो साल 2014 में 35 मिलियन डॉलर के करीब था। देश में कारोबार सुगम तरीके से हो सके इसके लिये नियमो में छूट और लोन लेने की बेहतर व्यवस्था का ही असर है कि आज भारत आर्थिक तौर पर मजबूत हो रहा है। जिसका असर ये देखने को मिला की कोरोना काल में लोगों को आर्थिक पैकेज देने के बाद भी भारत की आर्थिक हालात बेहतर रहे।

विश्व में भारत की मजबूत पहचान बनी

पिछले सात सालो में विश्व में भारत ने एक अलग छाप छोड़ी है। नया भारत अपने आप में मजबूत है तो अपने हक की आवाज उठाने में पीछे नहीं है ये ताकत मोदी सरकार की विदेशनीति ने ही दी है। खासकर जिस तरह से कोरोना काल में भारत ने विश्व को एक परिवार मानते हुए वैक्सीन की सेवा की वो मिसाल बन गई है। कोरोना की दूसरी में विश्व जिस तरह से भारत के साथ खड़ा है ये उसकी एक बानगी भी है कि आज हर देश भारत को मदद देने के लिये आतुर है जबकि भारत ने कोरोना की दूसरी लहर से लड़ने के लये पहले किसी से मांग नही रखी थी। नतीजा ये हुआ कि विश्व के संगठनो में आज भारत कई संगठन का हेड है। जलवायु परिवर्तन का नेतृत्व आज भारत कर रहा है जो अपने आप में बड़ी बात है कम शब्दो में बोले तो विश्व में कोई भी देश किसी भी विचार धारा की क्यो ना हो पर वो मोदी जी के साथ खड़ा दिखता है।

7 सालो में नये भारत के दर्शन होने लगे है आज देशवासियों के दिल में देश बसने लगा है। पीएम मोदी ने देश में ऐसा जोश भर दिया है कि हर कोई आज देश के लिये कुछ करना चाहता है। ये जो अलख जगी है वो पीएम मोदी ने जगाई है जो इन साल सालो में सबसे बड़ा काम है।