सनातन संस्कृति का विश्व में बढ़ता दबदबा, नेतन्याहू ने देशवासियों से कहा, कोरोना से बचना है तो करें ‘नमस्ते’

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हिन्दू धर्म को ही सनातन धर्म के वैकल्पिक नाम से जाना जाता है। ‘सनातन’ का अर्थ है – शाश्वत या ‘हमेशा बना रहने वाला’, अर्थात् जिसका न आदि है न अन्त। सनातन धर्म में मनुष्य के आचरण और जीवन निर्वाह हेतु कई तरह के नीति, नियमों, सिद्धांतों, आदर्शों का प्रतिपादन किया गया है जिनसे जीवमात्र और प्रकृति सुरक्षित-संरक्षित रहे। उन्ही में से एक प्रामाणिक परम्पराएं है ‘नमस्ते’ करना। इसमें सामने वाले के प्रति आदर का भाव भी है तो साथ ही किसी भी तरह के संक्रमण के फैलने की कोई गुंजाइश नहीं है। यही वजह है कि हाथ मिलाने से बेहतर दोनों हाथ जोड़कर नमस्ते करने के कई फायदे हैं। आज कोरोना से बचने के लिए सभी इसी को अपनाने की बात कर रहे है।

चीन के वुहान से निकला कोरोना वायरस की दहशत आज पूरी दुनिया में है और इसके संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए हरसंभव उपाय किये जा रहे हैं। अब इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कोरोना से बचने के लिए भारतीय तरीके से अभिवादन करने को कहा है।

कोरोना वायरस से निपटने के लिए दुनियाभर के एक्सपर्ट्स बता रहे है की एक दूसरे से शारीरिक दूरी बनाए रखें ताकि यह बीमारी किसी दूसरे में ना फैले। इस वायरस का दहशत इस कदर है कि एहतियातन लोग हाथ मिलाने से भी बच रहे हैं।

आपको बता दें कि एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोरोना संक्रमित व्यक्ति से 2 से ढाई फीट की दूरी रखनी जरूरी है। संक्रमण से बचने के लिए कोरोना के मरीज के एकदम पास ना जाएं, हाथ ना मिलाएं। संभव हो तो मास्क का इस्तेमाल करें।

इजरायल के पीएम ने अपने नागरिकों से ‘नमस्ते’ करने को कहा

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भीं अपने देशवासियों से कहा है कि वो हाथ ना मिलाएं और भारत के अभिवादन की परंपरा की तरह नमस्ते करें। नेतन्याहू ने कहा कि हम वैश्विक आपदा के बीच खड़े हैं लेकिन इजरायल ने काफी अच्छा काम किया है और देश में वायरस को रोकने के लिए फौरन कदम उठाए गए। उन्होंने कहा, ‘इजरायल में वायरस के फैलने की रफ्तार कम करने के लिए हमें कठोर कदम उठाने होंगे। हमने आइसोलेशन भी शुरू किया है और उड़ानों के लिए विशेष निर्देश जारी किए गए हैं।’ आपको बता दें कि इजरायल में कोरोना के 15 मामलों की पुष्टि हो चुकी है लेकिन किसी की जान नहीं गई। करीब 7 हजार लोगों को घर पर ही अलग रखा गया है।

अब कांग्रेस नेता शशि थरूर ने इसपर प्रतिक्रिया दी है। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने अपने ट्वीट में कहा, ‘हमारी हर परंपरा में विज्ञान है, तभी तो भारत महान है।’ शशि थरूर के इस जवाब की सोशल मीडिया पर भी तारीफ हो रही है।

एंजिला मर्केल से उनके ही मंत्री ने हाथ मिलाने से किया इनकार

उधर जर्मनी में चांसलर एंजेला मर्केल के लिए उस वक्त स्थिति असहज हो गई जब उनके ही एक मंत्री ने उनसे हाथ मिलाने से इनकार कर दिया। यह नज़ारा जर्मनी में दिखाई पड़ा जब जर्मनी के आंतरिक मंत्री होर्स्ट जेहोफान ने एंजिला मर्केल से हाथ मिलाने से इनकार कर दिया। एंजेला मर्केल भी इसके बाद तुरंत हाथ वापस खींच लेती हैं। ये वीडियो बर्लिन में हुए माइग्रेशन समिट का है। इस घटना पर समूचा हॉल ठहाकों से गूंज उठता है। लेकिन इसके जरिए एंजेला मर्केल और उनके मंत्री जेहोफान अपने देश को कोरोना संक्रमण से बचने के एक संदेश देने में भी कामयाब हो गए। दअसल जर्मनी में भी कोरोना के कहर से 157 मरीज संक्रमित हो चुके हैं।

भारत में सरकार है अलर्ट

गौरतलब है की विश्वभर में इससे 3,200 लोगों की जान जा चुकी है और 90,000 से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं। विदेश मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि विदेशों में 17 भारतीय कोरोना वायरस से संक्रमित हैं जिनमें से जापान के क्रूज जहाज से 16 मामले आए हैं जबकि यूएई से एक भारतीय इनमें शामिल हैं।

भारत में कोरोना के मामले सामने आने के बाद से सरकार अलर्ट पर है। मेट्रो से लेकर ऑफिस और स्कूलों तक हर तरह की सावधानियां बरती जा रही हैं, ताकि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

एहतियातन राष्ट्रपति कोविंद के कार्यालय ने कहा कि इस बार राष्ट्रपति भवन में होली मिलन समारोह का आयोजन नहीं किया जाएगा।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •